राजनीति

राजनीति

ऐसे ही नेता चुन के आएंगे!

ओपिनियन पोस्ट का यह अंक जब आप पढ़ रहे होंगे, तब लोकतंत्र का महोत्सव समाप्त हो चुका होगा. जीत का सर्टिफिकेट लेकर 543 सांसद दिल्ली की ओर रवाना हो चुके होंगे. सरकार बनाने की कवायद चल रही होगी. लेकिन इन स...

महागठबंधन का महाफरेब

नरेंद्र मोदी का विजय रथ रोकने के लिए महागठबंधन तो बना, लेकिन उसके अंदर कितनी गांठ हैं, इस सच्चाई से जब आप रूबरू होंगे, तो हैरान रह जाएंगे. तीन चरणों के मतदान के बाद जैसे-जैसे इस सच से पर्दा उठ रहा है,...

किसी अजूबे से कम नहीं था भारत का पहला चुनाव

भारत को दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र होने का गौरव हासिल है. यदि 1975 के आपातकाल को छोड़ दिया जाए, तो यहां नियमित रूप से चुनाव हुए हैं और जब कभी मौका आया, तो बिना किसी अड़चन के सत्ता परिवर्तन भी हुआ. य...

सात सीटों का संग्राम

दिल्ली की सात लोकसभा सीटों के लिए 12 मई को मतदान होना है. आंदोलन से राजनीति का सफर तय करने वाली आम आदमी पार्टी के लिए यह चुनाव काफी महत्वपूर्ण है. सात-आठ महीने बाद यहां विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. अ...

राहुल के खिलाफ कांग्रेसी साजिश!

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान कांग्रेस के भीतर दो महत्वपूर्ण फैसले लिए गए. पहला फैसला प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में लाने का था. कांग्रेस के कई नेता प्रियंका को सक्रिय राजनीति में लाने और उन्हें को...

इलेक्टोरल बॉन्ड : चुनावी चंदे का स्रोत सार्वजनिक होना जरूरी

नगद हो या चेक, चुनावी रसीद हो या इलेक्टोरल ट्रस्ट या फिर नया-नवेला इलेक्टोरल बॉन्ड. चुनावी चंदे के किसी भी प्रकार को लेकर सबसे महत्वपूर्ण सवाल सिर्फ एक है कि क्या चुनावी चंदे में काला धन इस्तेमाल हो र...

पीएम बनने के लिए केंद्रीय मंत्री का षड्यंत्र

राजनीति का खेल भी अजीबोगरीब है. पूरे देश में हर पार्टी चुनाव प्रचार में जुटी है और ज्यादा से ज्यादा सीटें जीतने की कोशिश कर रही है. लेकिन, हर पार्टी के भीतर भी कांटे की भिडं़त जारी है. दुनिया के सामने...

अबकी बार किसकी सरकार

जीएसटी से दिक्कत नहीं बिहार सेंट्रल चैंबर ऑफ  कॉमर्स के पूर्व अध्यक्ष एवं व्यवसायी देवेंद्र कुमार जैन का मानना है कि राष्ट्र हित में और देश के चहुंमुखी विकास के लिए दोबारा नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में...

राजरंग : प्रियंका का हाथ, सेना के साथ

प्रियंका का हाथ, सेना के साथ कांग्रेस की ओर से हर मंच पर राहुल गांधी की नीतियों का समर्थन करने वाली प्रियंका चतुर्वेदी को अब उन्हीं नीतियों का विरोध करना होगा. कांग्रेस की मुखर आवाज रहीं चतुर्वेदी ने...

हाशिये पर किसान-कामगार

लोकतंत्र का महापर्व जारी है, सियासत दां गला फाडक़र आम जन के लिए ‘दरियादिली’ की नुमाइश कर रहे हैं. हर तरफ  नित नए ऐलान देखकर जनता भौचक है. लेकिन, किसानों-कामगारों का दर्द अभी तक तारी है, किसी ने उनके जख...

×