एनजीटी पुराने आदेश पर अड़ा, नहीं चलेंगी पुरानी गाडियां

ओपिनियन पोस्ट
Thu, 14 Sep, 2017 18:29 PM IST

ओपिनियन पोस्‍ट
नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने दिल्ली-एनसीआर में पुराने डीजल-पेट्रोल वाहनों पर रोक के आदेश को बरकरार रखा है। एनजीटी के इस आदेश से केंद्र सरकार को बड़ा झटका लगा है। केंद्र सरकार ने एनजीटी में अपील की थी कि वह अपने इस आदेश को मॉडिफाई करे। एनजीटी के इस आदेश के बाद अब दिल्ली-एनसीआर में 10 साल पुरानी डीजल गाड़ियां और 15 साल पुरानी पेट्रोल गाड़ियों पर रोक लग जाएगी। हांलाकि दिल्‍ली में अग्निशमन विभाग को डीजल गाडियों के इस्‍तेमाल करने पर एजीटी कुछ दिन पहले ही मंजूरी देे चुका है।
बता दें कि केंद्र सरकार ने एनजीटी के 15 साल पुरानी गाडियों के प्रतिबंध के आदेश को लेकर सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी। लेकिन कोर्ट ने वापस इस मामले को एनजीटी के पाले में ही डाल दिया था। एनजीटी ने 2015 में अपने अंतरिम आदेश में इन वाहनों पर रोक लगाई थी।
एनजीटी के आदेश के बाद दिल्ली में पुरानी गाड़ियों के रजिस्ट्रेशन होने पर भी रोक लग गई थी। एनजीटी इससे पहले भी कई बार इस बारे में केंद्र को लताड़ लगा चुकी है। हालांकि केंद्र की रवैया इस पर ढीला ही रहा था।
इससे पहले भी एनजीटी ने केंद्र को कहा था कि उन्होंने पिछले एक साल में 10 साल पुरानी डीजल गाड़ियों को हटाने के लिए क्या किया है। एनजीटी ने पूछा कि आपने कुछ नहीं किया, सच्चाई ये है कि आप कुछ करना नहीं चाहते। जमीनी सच्चाई ये है कि सरकारी मशीनरी काम ही नहीं करना चाहती।

केंद्र सरकार की ये थी दलील
केंद्र सरकार ने एनजीटी से अपील की थी कि वो अपने आदेश को मॉडिफाई करें.
मोटर व्हीकल एक्ट में प्रावधान है कि किसी भी गाड़ी को खरीदने के बाद 15 साल चलाया जा सकता है.
इस आदेश का असर हेवी इंडस्ट्री पर पड़ेगा, जिससे नौकरियों पर भी फर्क पड़ेगा.
इस आदेश से जनता को भी काफी नुकसान होगा.
वाहनों से ज़्यादा प्रदूषण कंस्ट्रक्शन और इंडस्ट्रियल यूनिट्स से होने का तर्क.
एनजीटी ने सरकार के सभी तर्क नकारते हुए अपने अंतरिम आदेश को बरकरार रखा है.

READ  नौशेरा में पाकिस्तानी चौकी तबाह कर भारतीय सेना ने दुश्मन को दिया करारा जवाब

अग्निशमन विभाग प्रयोग कर सकता है डीजल गाडियां
दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण पर लगाम लगाने के लिए एनजीटी की राजधानी से डीजल की गड़ियों को हटाने की कोशिशों के बीच दिल्ली की फायर सर्विस की एक अर्जी पर एनजीटी ने इमरजेंसी हालातों के लिए जरूरी इन गाड़ियों के रजिस्ट्रेशन की इजाजत दी थी। हालांकि फायर सर्विस ने एनजीटी को बताया है कि ये सभी नई गाड़ियां बीएस-4 मानकों के अनुरूप है।
दिल्ली फायर सर्विस के फिलहाल दिल्ली में 59 फायर स्टेशन है। उन्हें आग लगने वाली जगहों से बचाव के लिए हर साल करीब 27 हजार कॉल आती है। लिहाजा गाड़ियों की संख्या को बढ़ाना बेहद जरूरी है। फायर सर्विस 2014 से अब तक अलग-अलग फायर स्टेशनों से करीब 66 ऐसे डीजल वाहनों को फेज आउट कर चुकी है, जो 10 साल से ज्यादा पुराने थे।

×