राष्ट्रीय

राष्ट्रीय

खिलाड़ी बिगाड़ रहे हैं खेल

लोकसभा चुनाव को लेकर राज्य में अगर कुछ तय है, तो यह कि इस बार कांग्रेस फिसड्डी नहीं रहने वाली. 2014 के चुनाव में मोदी लहर के चलते कांग्रेस की झोली खाली रह गई थी. भाजपा इस बार भले ही २५ का आंकड़ा न दोह...

युवा वोटर करेंगे उम्मेदवारों की किस्मत का फैसला

साल 2014 में देवभूमि उत्तराखंड की सभी पांच संसदीय सीटों पर केसरिया फहराने वाली भाजपा को इस बार दिन में तारे नजर आ रहे हैं. पौड़ी, टिहरी एवं नैनीताल सीट पर कांग्रेस के उम्मीदवारों को लगातार मिल रही बढ़...

इतिहास दोहरा पाएगी भाजपा

दिल्ली का रास्ता उत्तर प्रदेश से होकर जाता है. इसलिए इस राज्य को सत्ता के खजाने की ‘मास्टर की’ भी माना जाता है. इस लिहाज से लोकसभा चुनाव आते ही सबसे ज्यादा चुनावी समीकरण बनने-बिगडऩे का खेल अगर कहीं हो...

नौकरशाही का सत्ता प्रेम

वरिष्ठ नौकरशाह परिमल ब्रह्मा अपनी किताब ‘ऑन द कोरिडोरस ऑफ पावर’ की भूमिका में लिखते हैं, ‘साउथ ब्लाक के गलियारों से गुजरते ही मैं सत्ता की शक्ति महसूस कर सकता हूं, सूंघ सकता हूं और देख भी सकता हूं. बल...

अर्जुन के तीर से दीदी घायल

पश्चिम बंगाल में राजनीतिक समीकरण बदलने वाला है. ‘दीदी’ का किला तोडऩे के लिए भाजपा तो कोशिश कर ही रही है, लेकिन किले की दीवार के कुछ पत्थर भी बाहर निकल कर भगवा इमारत को मजबूत करने में जुटे हैं, जिससे ‘...

अंतरिक्ष युद्ध के लिए भारत तैयार

देश की बढ़ती सामरिक ताकत में एक नया अध्याय जुड़ गया है. जल, थल और नभ के बाद अब अंतरिक्ष में भी भारत ने अपनी शक्ति का प्रदर्शन किया हैं. उपग्रह रोधी मिसाइल का सफल परीक्षण करके भारत ने यह साबित कर दिया...

राजरंग : भाजपाई स्टार प्रचारकों की परेशानी

भाजपाई स्टार प्रचारकों की परेशानी भाजपा के कुछ स्टार प्रचारकों के साथ एक बड़ी समस्या हो गई है. अलग-अलग क्षेत्रों में उनका इस्तेमाल तो किया जा रहा है, लेकिन उनके सामने भाषा की बड़ी समस्या आ रही है. दरअ...

दिल्ली का बाबू : दावोस में बाबुओं की मौज

दावोस में बाबुओं की मौज महाराष्ट्र के पांच शीर्ष बाबू दावोस की बर्फीली ढलानों पर अपनी पांच दिवसीय यात्रा के लिए 7.63 करोड़ रुपये के बिल को लेकर चर्चा में हैं. प्रतिनिधि मंडल में अतिरिक्त मुख्य सचिव एस...

समस्या की असल जड़ अनुच्छेद 35-ए

सियासत अक्सर आंखों पर पर्दा डाल देती है और फिर यह तय करना मुश्किल हो जाता है कि सही क्या है और गलत क्या. अनुच्छेद 35-ए को लेकर यही स्थिति है. 1954 में तत्कालीन केंद्र सरकार ने इसके जरिये जम्मू-कश्मीर...

लाठी के बल पर जन सुनवाई की कवायद

पर्यावरण स्वीकृति के लिए जन सुनवाई जरूरी है, सो ऐसा करना शासन-प्रशासन की मजबूरी है. लेकिन, जिन्हें जन सुनवाई में असल भागीदारी करनी है, उन स्थानीय नागरिकों को बलपूर्वक रोका जा रहा है, उनकी कोई बात तक न...

जान देंगे, जमीन नहीं देंगे

सितंबर 2012 में बनी झारखंड सरकार की ऊर्जा नीति अक्टूबर 2016 में बदल दी गई. इसके प्रावधानों में संशोधन किए गए और रघुवर दास कैबिनेट ने उस पर मुहर लगा दी. इससे पहले सरकार ने कोई सर्वे नहीं कराया और न किस...

पूर्णिया (बिहार) : पुराने योद्धा, नया समीकरण

साल 2014 की मोदी लहर में नीतीश कुमार की लाज बचाने वाले संतोष कुशवाहा इस बार खुद मोदी के भरोसे हैं और 2004 से अब तक भारतीय जनता पार्टी का परचम लहराने वाले उदय सिंह उर्फ पप्पू ‘पंजा’ निशान लेकर मैदान मे...

×