bihar

एक दुकान, हर समाधान

अफागर वे मुकदमे जिता सकते हैं, तो देश में व्याप्त बेरोजगारी क्यों नहीं दूर कर देते? अपराधियों का सया क्यों नहीं कर देते? नक्सलियों पर अपना जादू क्यों नहीं चलाते कि वे असलहे छोडक़र तेंदू पत्ते से बीड़ी...

विकास की आड़ में पहाड़ों की लूट

नेतरहाट की पहाडिय़ां अपने सौंदर्य के लिए देश भर में विख्यात हैं, लेकिन खनन कंपनियां उनकी सुंदरता पर ग्रहण लगा रही हैं. वे यहां की अपार खनिज संपदा लूटने पर आमादा हैं, जिससे आदिवासियों का जीवन दूभर हो गय...

मैदान में दिग्गज, वोटर खामोश

राज्य ही नहीं, देश की नजर जिन प्रमुख लोकसभा क्षेत्रों पर है, उनमें पटना साहिब भी शामिल है, जहां दो दिग्गजों के बीच सीधी टक्कर है. भाजपा और कांग्रेस के लिए यह सीट प्रतिष्ठा का सवाल बन गई है. एनडीए और म...

किसी की राह आसान नहीं

वामपंथ को उखाड़ कर समाजवाद स्थापित करने वाले मगध की जहानाबाद संसदीय सीट काफी ‘हॉट’ मानी जाती है. यूं तो राज्य में कई लोकसभा क्षेत्र भूमिहार बहुल हैं, लेकिन भूमिहार राजनीति का पैमाना नापने का थर्मामीटर...

एमवाई समीकरण की परीक्षा

मुंबई एवं दिल्ली में भवन निर्माण कार्य से संबद्ध मजदूर घर नहीं लौटे हैं. अधिकांश घरों में केवल महिलाएं एवं बुजुर्ग नजर आते हैं. 17वीं लोकसभा के लिए अपना प्रतिनिधि चुनने की जिम्मेदारी इन्हीं महिलाओं एव...

मां का मामला है सोनाक्षी

जबसे शत्रुघ्न सिन्हा ने भाजपा का दामन छोड़ा है, उन पर ट्रोलर्स कुछ ज्यादा ही मेहरबान हो गए हैं. जब उन्होंने पार्टी बदली, तो सोशल मीडिया में उनकी जमकर छीछालेदर हुई. फिर उनकी पत्नी पूनम सिन्हा भी एक दूस...

देशभक्ति का पंचनामा

अभिनेता अक्षय कुमार का करियर अच्छा-खासा चल रहा था. देशभक्ति टाइप फिल्मों से ‘भारत कुमार’ जैसी इमेज बन गई थी, बीच-बीच शहीदों के लिए दान-पुण्य भी कर लेते थे. लेकिन, अचानक उन्हें पीएम मोदी का नॉन पॉलिटिक...

जांचिए अपने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का स्वास्थ्य

यूं तो पंचायत स्तर पर स्वास्थ्य सेवाओं के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बनाए गए हैं और इसके लिए सरकार करोड़ों रुपये खर्च भी करती है, लेकिन कई बार शिकायत आती है कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर नियुक्...

23 के बाद आएगी सियासी सुनामी

गिरेगी नीतीश सरकार या फिर नरेंद्र मोदी सरकार में शामिल होंगे उपेंद्र कुशवाहा एवं मुकेश सहनी. टूटेगा राजद या फिर जदयू में मचेगी भगदड़. लोजपा का बचेगा कुनबा या फिर हाशिये पर जाएंगे जीतन राम मांझी. बस, द...

कांग्रेस का पलड़ा भारी

नक्सल प्रभावित छत्तीसगढ़ की 11 लोकसभा सीटों के लिए तीन चरणों में मतदान की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है. अब सबको 23 मई का इंतजार है, जब चुनाव के नतीजे घोषित होंगे. यूं तो राज्य में बहुजन समाज पार्टी ने भी...

×