पांच राज्यों में चुनावों का ऐलान चार को संभव

ओपिनियन पोस्ट
Thu, 29 Dec, 2016 18:16 PM IST

उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर में होने वाले विधानसभा चुनाव की घोषणा चुनाव आयोग 4 जनवरी को कर सकता है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक उत्तर प्रदेश में सात चरण और बाकी राज्यों में एक चरण में चुनाव कराए जा सकते हैं। पहले चरण में उत्तराखंड और पंजाब में चुनाव कराने की संभावना है। इन दोनों राज्यों में 8 फरवरी को चुनाव करवाए जा सकते हैं। सूत्रों का कहना है कि चुनाव के ज्यादातर चरण फरवरी में कराए जा सकते हैं। मतों की गिनती मार्च के पहले हफ्ते में हो सकती है।

सूत्रों का कहना है कि चुनाव आयोग ने मतदान की तारीखें तय कर ली है। अब सिर्फ गृह मंत्रालय की बैठक में चुनाव की तैयारियों पर चर्चा होनी है। चुनाव की घोषणा की तारीख पर अंतिम फैसला मुख्य चुनाव आयुक्त और दोनों चुनाव आयुक्त लेंगे। यूपी सहित दो राज्यों के बोर्ड परीक्षा कार्यक्रम देर से मिलने से घोषणा में इतनी देरी हुई है।

चुनाव की घोषणा के साथ ही आदर्श आचार संहिता लागू हो जाएगी। चुनाव आयोग ने सभी राज्यों और राजनीतिक दलों को ताकीद की है कि इनका पालन करना जरूरी होगा। आयोग ने जनता को भी आगाह किया गया है कि इसके पालन में राजनीतिक पार्टियां या नेता जहां भी लापरवाही करें फौरन इसकी सूचना और सबूत चुनाव आयोग के चौबीसों घंटे काम करने वाले कॉल सेंटर को टोलफ्री नंबर 1950 पर फोन या एसएमएस कर दें।

चुनाव आयोग के दिशा-निर्देश

चुनाव आयोग ने विधानसभा चुनाव के लिए नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। चुनाव आयोग ने राज्य की चुनाव आयोग को निर्देश दिया है कि फोटो मतदाता पर्ची पर वोटर की बड़ी तस्वीर होगी और मतदाता पर्ची पर पोलिंग स्टेशन की लोकेशन भी दर्ज होगी। यही नहीं, मतदाता पर्ची पर गूगल मैप का स्नैपशॉट लगेगा। सभी राज्य चुनाव आयोग से बदलाव लागू करने को कहा गया है।

READ  अब पेंशन की मत लें टेंशन

पीएम की घोषणाओं पर नजर

चुनाव आयोग की ओर से तारीखों का ऐलान किए जाने से ज्यादा सियासी गलियारे में भाजपा के चुनाव प्रचार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से की जा रही घोषणाओं पर है। राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि प्रधानमंत्री मोदी जल्द ही नोटबंदी की वजह से गरीब तबके को हो रही परेशानी के उपाय के तौर पर कोई बड़ी घोषणा करने वाले हैं। यह भी काफी दिलचस्प होगा कि मोदी की ओर से की जाने वाली घोषणा चुनावी आचार संहिता का उल्लंघन न करे। इस लिहाज से भाजपा के लिए 2 जनवरी को लखनऊ में होने वाली प्रधानमंत्री मोदी की रैली चुनाव अभियान की बेहतरीन शुरुआत हो सकती है।

×