बीजापुर।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 14 अप्रैल को दलितों के मसीहा बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर की जयंती के मौके पर छत्तीगढ़ के बीजापुर में आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत की। वह वायुसेना के विमान से बस्तर जिले के मुख्यालय जगदलपुर पहुंचे, जहां मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, उनके मंत्रिमंडल के सदस्य, वरिष्ठ नेताओं और वरिष्ठ अधिकारियों ने उनका स्‍वागत किया। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की और स्वास्थ्य मंत्री जे पी नड्डा मुख्य अतिथि थे।

इस मौके पर उन्होंने कहा कि एक गरीब मां का बेटा, पिछड़े समाज से आने वाला आपका ये भाई अगर आज देश का प्रधानमंत्री है, तो ये भी बाबा साहेब की ही देन है।

योजना के तहत उन्‍होंने पहले स्वास्थ्य केंद्र का उद्घाटन किया। इस मौके पर बस्तर इंटरनेट योजना के पहले चरण का भी शुभारंभ किया गया, जिसके तहत आदिवासी क्षेत्र के सात जिलों में फाइबर ऑप्टिक्स केबल के 40 हजार किलोमीटर लंबे नेटवर्क को बिछाया जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जांगला में कहा, ”आयुष्मान भारत योजना के पहले चरण को शुरू किया गया है जिसमें प्राथमिक स्वास्थ्य से जुड़े विषयों में बड़े बदलाव लाने का प्रयास किया जाएगा। देश की हर बड़ी पंचायत में, लगभग डेढ़ लाख जगहों पर सब सेंटर और प्राइमरी हेल्थ सेंटरों को हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर के रूप में विकसित किया जाएगा।”

मोदी दूसरे प्रधानमंत्री हैं जो आदिवासी जिले बीजापुर पहुंचे। उन्होंने गुदुम और भानुप्रतापपुर के बीच एक नई रेल लाइन और एक यात्री ट्रेन का भी उद्घाटन किया जिससे उत्तर बस्तर क्षेत्र रेलवे के मानचित्र पर आ गया है।

READ  शिवसेना सांसद रविंद्र गायकवाड़ पर 5 एयरलाइन्स ने लगाया प्रतिबंध

प्रधानमंत्री के रूप में मोदी का छत्तीसगढ़ का यह चौथा दौरा है। छत्तीसगढ़ में इस साल विधानसभा चुनाव होने हैं। वह मई 2015 में दंतेवाड़ा, फरवरी 2016 में नया रायपुर व राजनंदगांव और नवंबर 2016 में नया रायपुर आए थे।

मोदी ने सात जिलों में बैंक की शाखाओं का उद्घाटन और भारत बीपीओ प्रमोशन योजना के तहत विकसित ग्रामीण बीपीओ केंद्र का निरीक्षण किया। बस्तर इंटरनेट योजना द्वारा बीपीओ केंद्र को इंटरनेट मुहैया कराया जाता है। उन्होंने 1,700 करोड़ रुपये की सड़क और पुल परियोजनाओं की भी नींव रखी।

क्या है आयुष्मान भारत योजना

आयुष्मान भारत योजना तहत भारत के 10 करोड़ गरीब परिवारों को पांच लाख रुपये तक की स्वास्थ्य बीमा की सुरक्षा मिलेगी। योजना के तहत जिनका बीमा होगा वे अस्पतालों में गंभीर बीमारियों का फ्री इलाज करवा सकेंगे।

आयुष्मान भारत योजना के तहत सरकार का मकसद वर्ष 2022 तक 1.5 लाख स्वास्थ्य और वेलनेस केंद्र खोलना है जहां रक्त चाप, मधुमेह, कैंसर और वृद्धावस्था जनित रोगों समेत कई बीमारियों का इलाज किया जाएगा। इस योजना के तहत सरकार ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा योजना (एनएचपीएस) की व्यापक रूपरेखा तैयार की है और लाभार्थियों की पहचान करने के मापदंड तय करने का काम चल रहा है।

खास बातें   

* छत्तीसगढ़ के सुकमा और दंतेवाड़ा में तेजी से विकास हो रहा है।

* आयुष्मान भारत की सोच सिर्फ सेवा नहीं बल्कि यह जनभागीदारी है।

* हेल्थ और वेलसेन सेंटर का काम बीमारी को रोकना है।

* बीजापुर में 10वीं के एक छात्र ने ड्रोन बनाया।

* स्वास्थ्य सुविधाओं में लगातार सुधार हो रहे हैं।

READ  यूपी की नई परिस्थिति में ढल गया कांग्रेस का चुनाव घोषणापत्र

* कई स्वास्थ्य जांच मुफ्त करने की कोशिश।