एक बार फिर डोप टेस्ट की वजह से ओलंपिक खेलों में छह पदक विजेताओं समेत नौ एथलीटों को अयोग्य ठहरा दिया गया है। डोप के नमूने की दोबारा जांच में विफल रहने के बाद इन एथलीटों से 2008 बीजिंग ओलंपिक में जीते गए मेडल्स वापस लिए गए हैं।

अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति ने एथलीटों पर ताजा प्रतिबंधों की घोषणा अपने फैसले में की। इन एथलीटों के भंडारित नमूने डोप में सकारात्मक पाए गए, जब सुधरे हुए तरीके से उसकी दोबारा जांच की गई।

चार एथलीटों से सिल्वर मेडल छीन लिया गया जबकि दो एथलीटों से ब्रॉन्ज मेडल छीना गया। ये पदक वेटलिफ्टिंग, कुश्ती और महिलाओं के स्टीपलचेज में जीते गए थे।

सभी छह एथलीट पूर्व सोवियत देशों- रूस, बेलारूस, यूक्रेन, उज्बेकिस्तान और कजाकिस्तान से आते हैं और इन सभी के खून के नमूने में प्रतिबंधित स्टेरॉयड की मात्रा पायी गई है।

READ  आज भी भज्जी आते हैं सपने में- रिकी पोंटिंग