श्रीनगर। 

भारतीय सेना के आगे आतंकियों के मनसूबे उस समय धरे के धरे रह गए जब घुसपैठ की कोशिश कर रहे सात आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया गया। उनके पास से भारी मात्रा में गोला बारूद जैसे युद्ध के सामान बरामद किए गए हैं। हालांकि बृहस्पतिवार को नौगाम सेक्टर में आतंकियों के साथ गोलीबारी में सेना का एक जवान शहीद हो गया और दो जवान जख्मी हुए हैं।

सीमापार से जम्मू कश्मीर के गुरेज, माछिल, नौगाम और उड़ी सेक्टर में घुसपैठ की कोशिश की गई, जिसे भारतीय जवानों ने नाकाम कर दिया। घुसपैठियों के खिलाफ माछिल, मौगाम और उड़ी सेक्टर में सेना का ऑरपरेशन जारी है।

इन घुसपैठियों को पाकिस्तानी सेना कवर फायर करके भारतीय सीमा में दाखिल होने में मदद करती है। सुरक्षा के मद्देनजर भारतीय सेना की कई टुकडियों को जम्मू कश्मीर के लाइन ऑफ कंट्रोल पर तैनात कर दिया गया है। सेना के मुताबिक सीमापार से घुसपैठ की कोशिशों में बीते दिनों इजाफा हुआ है। पिछले 48 घंटों के दरम्यान सीमापार से घुसपैठ के कई प्रयास किए गए हैं। हालांकि भारतीय सेना की चौकसी की वजह से घुसपैठ को अंजाम नहीं दिया जा सका।

मौजूदा वर्ष में 22 घुसपैठ की कोशिशों को सेना ने नाकाम किया है, जबकि 34 हथियारबंद घुसपैठियों को मार गिराया गया है। पाकिस्तानी की ओर के इस प्रयास को भारतीय सेना की ओर से बहादुरी से नाकामयाब किया जाता रहा है। पवित्र रमजान के इस माह में पाकिस्तान और उसके एजेंट जम्मू कश्मीर में आतंक फैलाने की फिराक में हैं।

READ  नहीं रहे धार्मिक गुरु बाबा हरदेव सिंह, दामाद की भी मौत

उत्तरी कश्मीर के मच्छल सेक्टर में चार घुसपैठियों को मार गिराने के 12 घंटे बाद बृहस्‍पतिवार को भी घुसपैठ के प्रयास में तीन आतंकी मारे गए जबकि एक जवान शहीद व एक अन्य जख्मी हो गया। इस बीच, दक्षिण कश्मीर के पहलगाम में भी आतंकियों के छिपे होने की सूचना पर सुरक्षाबलों ने एक तलाशी अभियान छेड़ रखा है।

संबधित अधिकारियों ने बताया कि बृहस्‍पतिवार को सुबह नौगाम सेक्टर में सेना के जवानों ने स्वचालित हथियारों से लैस चार से पांच आतंकियों के एक दल को भारतीय सीमा में दाखिल होते देखा। जवानों ने उसी समय आस-पास की चौकियों को सतर्क करते हुए अपनी पोजीशन ली और घुसपैठियों को ललकारा।

जवानों की ललकार सुनते ही घुसपैठियों ने फायरिंग शुरु कर दी। उन्होंने जवानों पर राइफल ग्रेनेड भी दागे। जवानों ने भी जवाबी फायर किया और उसके बाद वहां दोनों तरफ से गोलियों की बौछार शुरू हो गई।

करीब दो घंटे तक दोनों तरफ से गोलियों की बौछार होती रही। इस दौरान एक सैन्यकर्मी शहीद हो गया और एक अन्य जख्मी हो गया। आतंकियों की तरफ से गोलियों की बौछार थमने पर जवानों ने मुठभेड़स्थल की तलाशी ली तो उन्हें वहां दो आतंकियों के शव मिले।