नई दिल्ली।

देश के ज्यादातर हिस्सों में अब मानसून की बारिश हो रही है। कहीं बारिश राहत लेकर आई है तो कहीं आफत। मौसम विभाग ने शनिवार को 10 राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट जारी कर दिया। राजस्थान में भारी बारिश के कारण दो मौतें हो चुकी हैं। बीकानेर में बारिश का पानी लोगों के घरों में घुस गया। सड़कें भी तालाब बन गई हैं।

पूरे देश में मानसून 15 जुलाई तक आना था, लेकिन अभी हर जगह पहुंच गया है। हिमाचल के चंबा में रावी नदी का रौद्र रूप दिखा, जहां भारी नुकसान हुआ है। जम्मू-कश्मीर के ज्यादातर हिस्सों में भारी बारिश से झेलम और तवी नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। इनकी सहायक नदियां भी उफान पर हैं। प्रशासन ने कश्मीर डिवीजन के स्कूलों में शनिवार को छुट्टी कर दी।

मौसम विभाग के मुताबिक असम, मेघालय, उत्तराखंड, तटवर्ती कर्नाटक, अरुणाचल प्रदेश, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, उत्तर प्रदेश, पंजाब और केरल में शनिवार को भारी बारिश हो सकती है।

1 से 2 जुलाई के बाद मैदानी इलाकों और मध्य भारत में मानसून की सक्रियता कम हो सकती है। 6 जुलाई तक पहाड़ी राज्यों और उनसे लगे मैदानी इलाकों में मानसून सक्रिय हो सकता है। उत्तर-पश्चिम भारत में दो-तीन दिन तक अच्छी बारिश की संभावना है।

खराब मौसम की वजह से अमरनाथ यात्रियों को जम्मू के भगवती नगर बेस कैम्प में रोका गया है। अधिकारियों ने बताया कि भगवती नगर और दूसरे कैम्पों में करीब 5,000 यात्री हैं। जम्मू से आगे मौसम खुला है, ऐसे में शनिवार सुबह उधमपुर में फंसे 2,032 तीर्थयात्रियों को पहलगाम के लिए रवाना कर दिया गया। बालटाल वाले रास्ते से भी तीर्थयात्रियों को आगे जाने की इजाजत दे दी गई।

READ  मनोज सिन्हा यूपी भाजपा के अध्यक्ष की दौड़ में आगे

आधिकारिक प्रवक्ता ने बताया कि कश्मीर घाटी में मूसलाधार बारिश की स्थिति के परिप्रेक्ष्य में राज्यपाल एनएनवोहरा ने सलाहकार बी बी व्यास और अन्य संबंधित विभाग के अधिकारियों के साथ शुक्रवार को बाढ़ नियंत्रण की तैयारियों की समीक्षा की।

राज्यपाल ने संभागीय आयुक्त (कश्मीर) और सभी उपायुक्तों को नियंत्रण कक्ष स्थापित करने और हेल्प लाइन नंबर स्थापित कर इसकी जानकारी आम नागरिकों को उपलब्ध कराने के निर्देश दिए।

जम्मू में खराब मौसम के कारण शनिवार को यहां से पवित्र अमरनाथ की यात्रा स्थगित कर दी गई। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मौसम प्रतिकूल होने की वजह से जम्मू के भगवतीनगर यात्री निवास आधार शिविर से अमरनाथ श्रद्धालुओं के नए जत्थे को यात्रा की अनुमति नहीं दी गई।

नए जत्थे को यात्रा की अनुमति देने से पहले बारिश के कारण पहलगाम और बालटाल में रूके श्रद्धालुओं को रवाना किया जाएगा। इस बीच शुक्रवार को उधमपुर में फंसे अमरनाथ श्रद्धालुओं के जत्थे को शनिवार की सुबह गंतव्य के लिए रवाना कर दिया गया।