एक्शन में शिवराज, मंदसौर के डीएम -एसपी को हटाया

ओपिनियन पोस्ट
Thu, 08 Jun, 2017 10:27 AM IST

ओपिनियन पोस्ट
मंदसौर में किसान आंदोलन के बेकाबू होने के बाद मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार अब कुछ ऐक्शन में है। राज्य सरकार ने गुरुवार को मंदसौर के डीएम स्वतंत्र कुमार सिंह और एसपी ओपी त्रिपाठी को हटा दिया। इसके साथ ही रतलाम और नीमच के डीएम भी बदले गए हैं। किसान आंदोलन के केंद्र बंने मंदसौर में ओमप्रकाश श्रीवास्तव को नया डीएम बनाया गया है।

राहुल गांधी मंदसौर के लिए निकले 
इस बीच किसान आंदोलन पर सियासत भी गरमा गई है। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी आज मंदसौर के लिए निकल चुके हैं। हालांकि प्रशासन ने साफ किया है कि राहुल को मंदसौर नहीं जाने दिया जाएगा और उन्हें नयागांव में रोक दिया जाएगा। अगर राहुल जिद पर अड़ेंगे तो उन्हें हिरासत में भी लिया जा सकता है। बीजेपी ने कांग्रेस पर किसानों को उकसाने का आरोप भी लगाया है। केंद्र सरकार की भी मंदसौर घटना पर पैनी नजर है। पीएम नरेंद्र मोदी ने बुधवार को अपनी कैबिनेट के शीर्ष पांच मंत्रियों के साथ मंदसौर फायरिंग पर बैठक की थी।
मंदसौर में मंगलवार को हुई पुलिस फायरिंग में पांच किसानों की मौत हो गई थी। इस घटना के बाद वहां किसानों का आंदोलन उग्र हो गया और प्रदर्शनकारियों ने सरकारी और निजी संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया। गरीबों और किसानों के मुद्दे को लेकर पहले ही मोदी सरकार पर निशाना साध रहे विपक्ष के हाथों में मंदसौर घटना ने एक नया हथियार थमा दिया है। राष्ट्रपति चुनाव को लेकर पहले ही एकजुट होने की कोशिश में लगे विपक्षी दल आने वाले दिनों में जल्द ही मोदी सरकार को घेर सकते हैं।
माना जा रहा है कि विपक्ष किसान मुद्दे को लेकर कुछ उसी तरह से आक्रामक रुख दिखाने की योजना बना रहा है, जैसे लैंड बिल को लेकर तीखे तेवर सामने आए थे। दरअसल, विपक्ष को कहीं न कहीं लग रहा है कि साल 2019 से पहले होने वाले गुजरात, कर्नाटक, हिमाचल प्रदेश, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश व नॉर्थ ईस्ट के कुछ राज्यों के चुनावों के मद्देनजर किसानों से जुड़ा मुद्दा ही सीधे वोटर को प्रभावित करता है। इसी के जरिए विपक्ष मोदी सरकार को कटघरे में खड़ा कर सकती है।

READ  सपा की तकरार व बसपा पर प्रहार

बीजेपी ने ले ली अन्नदाता की जान : कांग्रेस
मध्य प्रदेश के मंदसौर घटना पर कांग्रेस ने कहा, ‘किसान ने मांगे थे फसलों के दाम, बीजेपी ने ले ली अन्नदाता की जान।’ कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने बुधवार को कहा, ‘मोदी सरकार को किसानों के दर्द व पीड़ा से कोई लेना देना नहीं है। उन्होंने बीजेपी सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि ‘किसान लगते कर्जमाफी की गुहार, बीजेपी करती गोलियों की बौछार।’ सिंघवी ने कहा, ‘गोलीबारी की घटना के बाद से पीएम का सिर्फ एक ही ट्वीट आया है। जबकि किसानों की हत्या, आत्महत्या व बदहाली पर उन्होंने चुप्पी साध रखी है।’
बीजेपी का कांग्रेस पर आरोप
इधर बीजेपी ने भी कांग्रेस को आड़े हाथों लिया है। बीजेपी नेता जीवीएल नरसिम्हा राव ने आरोप लगाया कि कांग्रेस किसानों के आंदोलन का इस्तेमाल राज्य में हिंसा फैलाने के लिए कर रही है। उन्होंने कहा, ‘सरकार ने किसानों की मांग पूरी करने के लिए कई निर्णय लिए हैं। कांग्रेस पीएम नरेंद्र मोदी और राज्य के सीएम शिवराज सिंह चौहान की सफलता को पचा नहीं पा रही है।’
बीजेपी के एक और वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय ने भी कांग्रेस पर निशाना साधा और कहा कि बीजेपी ने हमेशा किसानों की भलाई के लिए काम किया है। इस पूरी स्थिति के पीछे कांग्रेस है। हिंसा से वह लोगों का ध्यान खींचना चाह रही है।’

×