नई दिल्ली।

तकनीक के जरिये गति बढ़ाने का रोमांच दिनोंदिन बढ़ रहा है। आए दिन तरह-तरह की तकनीक ईजाद की जा रही है, जिसने हमारे सफर के समय व तकलीफ को कम किया है। बुलेट ट्रेन उसका आधुनिकतम रूप है। चीन ने इस दिशा में एक छलांग लगाई है और वह अगले माह सितंबर में दुनिया की सबसे तेज ट्रेन चलाने जा रहा है। यह ट्रेन बीजिंग से शंघाई तक की दूरी को एक घंटे में तय करेगी।

रिपोर्ट के अनुसार, चीन रेलवे प्राधिकरण ने कहा- ‘कई सफल परीक्षणों के बाद ‘फुक्शिंग’ नामक यह ट्रेन 21 सितंबर से 350 से लेकर 400 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से दौड़ेगी।’ इस तरह की कुल सात ट्रेनों को चलाया जाएगा जो दोनों शहरों के बीच 14 बार यात्रा करते हुए कुल 1,318 किलोमीटर तक का सफर तय करेगी। यह ट्रेन 300 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से दौड़ने वाली पिछले संस्करण से अधिक स्पीड पर चलेगी।

चीन में बनी इस नई बुलेट ट्रेन की खास बात यह है कि इसमें एक खास तकनीक का उपयोग किया गया है, जो आपातकाल के दौरान ट्रेन की रफ्तार को स्वत: धीमा कर देगा। चीन में रेल का प्रसार विश्व में सबसे बड़ा है, जिसमें कुल वैश्विक आबादी का लगभग 60 प्रतिशत लोग सफर करते हैं।

चीन में दुनिया का सबसे लंबा हाई स्पीड रेल मार्ग भी है। यह रेल मार्ग देश की राजधानी बीजिंग से दक्षिणी महानगर क्वांगचो को जोड़ता है। 2,298 किलोमीटर लम्बे इस मार्ग पर बीजिंग और क्वांगचो रेलवे स्टेशन के बीच रेलगाड़ियां चलती हैं। इस रेल मार्ग पर रेलगाड़ियां 300 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार तक दौड़ती हैं।

READ  चीन को चौतरफा घेरने की रणनीति

चीन अगले महीने से दुनिया की सबसे तेज ट्रेन को पटरियों पर दौड़ाने की तैयारी में है। नई पीढ़ी की यह बुलेट रेल ‘फुशिंग’ 21 सितंबर से परिचालन शुरू करेगी। करीब 350 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से दौड़ने वाली यह ट्रेन बीजिंग और शंघाई शहरों के बीच की करीब 1250 किमी की दूरी मात्र 4 से 5 घंटे में पूरा करेगी।

दुनिया की सबसे तेज चलने वाली ट्रेन चीन की शंघाई मैग्‍लेव है। इस ट्रेन की मैक्‍सिमम स्‍पीड 430 किमी/घं है। हालांकि यह औसतन 250 किमी/घं की स्‍पीड से दौड़ती है। इस ट्रेन की शुरुआत 2004 में की गई थी। हारमनी दुनिया की दूसरी सबसे तेज गति से चलने वाली ट्रेन है। यह भी चीन की पटरियों पर दौड़ती है।

परीक्षण के दौरान हारमनी की मैक्‍सिमम स्‍पीड 416।6 किमी/घं दर्ज की गई थी। यह ट्रेन शंघाई और बीजिंग के बीच चलती है। एजीवी इटैलो 2007 में टेस्‍ट की गई यह ट्रेन अब इटली की सबसे तेज ट्रेनों में शुमार है। सीमेंस वेलरो स्‍पेन की सीमेंस वेलरो ट्रेन को एक बार 403 किमी/घं की स्‍पीड से चलाया गया था। हालांकि बाद में पैसेंजर्स की सुरक्षा का ख्‍याल रखते हुए इसकी स्‍पीड 350 किमी/घं कर दी गई है।

गतिमान एक्सप्रेस ट्रेन हज़रत निजामुद्दीन से आगरा कैंट तक चलती है। इसकी अधिकतम चाल 160 किमी प्रति घंटा (99 मील प्रति घंटा) है। औसत स्‍पीड 113 किमी प्रति घंटा है। यह ट्रेन कुल 188 किमी की दूरी तय करती है। इसे साल 2016 में शुरु किया गया था। यह भारत की सबसे तेज गति से चलने वाली ट्रेन है।

READ  सेक्स के लती थे सलमान रश्दी, पूर्व पत्नी पद्मा ने किया खुलासा