श्रीनगर।

पाकिस्तान को करारा जवाब देते हुए सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने उसके 10 रेंजरों को ढेर कर दिया। पिछले 3 जनवरी को सांबा सेक्टर में पाकिस्तानी स्नाइपर के हमले में कांस्टेबल आरपी हाजरा शहीद हो गए थे। इसी का बदला लेने के लिए बीएसएफ ने 24 घंटे के अंदर पाकिस्तान के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए उसकी दो चौकियों को तबाह कर दिया।

उधर, कश्मीर के आरएस पुरा सेक्टर के अरनिया इलाके में बॉर्डर सिक्युरिटी फोर्स (बीएसएफ) ने एक घुसपैठिए को मार गिराया। ये घुसपैठिया इंटरनेशल बॉर्डर से देश में घुसने की कोशिश कर रहा था। बीएसएफ ने पाकिस्तान के तीन मोटर रेंज और बीओपी को भी निशाना बनाया है।

पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद के रहने वाले हाजरा ने बीएसएफ में करीब 27 साल सेवाएं दी। उनकी 21 साल की एक बेटी और 18 साल का बेटा है। इस घटना से कुछ दिन पहले ही साल 31 दिसंबर 2017 को राजौरी जिले में नियंत्रण रेखा पर सेना के एक जवान की मौत हुई थी। सिपाही जगसीर सिंह ’32’ उस समय शहीद हो गये थे जब राजौरी जिले में नियंत्रण रेखा पर सीमापार से पाकिस्तानी सैनिकों ने गोलियां चलाई थीं।

साल 2017 में पाकिस्तान ने बीते दशक में सर्वाधिक बार संघर्ष विराम का उल्लंघन किया जिससे सेना के 19 और बीएसएफ के चार जवान सहित 35 लोगों की मौत हुई थी। 23 दिसंबर को राजौरी में नियंत्रण रेखा पर सेना के एक मेजर और तीन सैनिक शहीद हुए थे और दो दिन बाद जवाबी कार्रवाई में भारतीय सैनिकों ने पाक के कब्जे वाले कश्मीर में तीन पाकिस्तानी सैनिकों को मार गिराया था।

READ  कश्मीर के हालात पर होगी गहन चर्चा

जन्मदिन पर हुई हाजरा की शहादत के बाद बीएसएफ ने पाकिस्तान के खिलाफ बदले की बड़ी कार्रवाई शुरू की। बीएसएफ के एक प्रवक्ता ने बताया कि जवानों ने दो पाकिस्तानी मोर्टार की पोजिशंस का पता लगाया और उन्हें निशाना बनाकर नष्ट कर दिया।