आय से अधिक संपत्ति मामलें में सरेंडर के बाद जेल पहुँची शशिकला

ओपिनियन पोस्ट
Wed, 15 Feb, 2017 18:10 PM IST

विशेष संवाददाता
बंगलुरु । आय से अधिक संपत्ति के मामले में सुप्रीम कोर्ट की ओर से 4 साल की सजा और 10 करोड़ का जुर्माना लगाएं जाने के बाद एआईएडीएमके महासचिव शशिकला ने सरेंडर कर दिया जहाँ से उन्हें परापन्ना जेल भेज दिया गया । शशिकला के पहुंचने से पहले उनके पति बेंगलुरु के परापन्ना जेल पहुंच गए थे। इससे पहले तैयारी का जायजा लेने के लिए रजिस्ट्रार और विशेष अदालत के न्यायाधीश भी परापन्ना जेल पहुंचे। बेंगलुरु में कोर्ट को सिक्युरिटी की वजह से सेंट्रल जेल में शिफ्ट कर दिया गया था। इसी जेल में उन्होंने सरेंडर किया ।
जयललिता-एमजीआर  की समाधि पर  मत्था टेका
sasikala-3सरेंडर से पहले बंगलुरु रवाना होते समय शशिकला ने मरीना बीच पर पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की समाधि पर पहुंच कर श्रद्धांजलि दी। शशिकला ने जयललिता की समाधि पर तीन बार हथेली ठोक पर प्रार्थना की। श्रद्धांजलि देते हुए शशिकला ने समाधि पर फूल चढ़ाए और माथा टेककर शपथ भी ली। एमजीआर की समाधि पर जाकर भी मत्था टेका ।  इसके बाद शशिकला बेंगलुरु के लिए निकलीं।
इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने शशिकला को तुरंत सरेंडर करने को कहा था। सुप्रीम कोर्ट ने शशिकला की तरफ से दी गई उस याचिका को खारिज कर दिया है, जिसमें सरेंडर करने के लिए समय मांगा गया था। कोर्ट की तरफ से कहा गया है कि शशिकला को सरेंडर करने के लिए और वक्त नहीं, फैसले में बदलाव की गुंजाइश नहीं है।
जेल जाने से पहले खेला दांव 
जेल जाने से पहले शशिकला ने नया दांव खेल दिया। शशिकला ने अपने भतीजे दिनाकरन को एआईएडीएमके का उप महासचिव बनाया है। वो उनकी गैरमौजूदगी में पार्टी की कमान संभालेंगे। बता दें कि दिनाकरण को 2011 में जयललिता ने बाहर का रास्ता दिखा दिया था।
पन्नीरसेल्वम और उनके समर्थकों को पार्टी से बाहर निकाल दिया। शशिकला को सजा के बाद कल पलानीसामी को विधायक दल का नया नेता बना दिया । लेकिन बुधवार को शशिकला और पलानीसामी के खिलाफ विधायकों को किडनैप करने और बंधक बनाकर रखने के मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गई है।
मदुरै दक्षिण के विधायक एस सर्वानन की शिकायत पर ये मामला दर्ज किया गया है। सर्वानन ने अपनी शिकायत में कहा है कि उसे किडनैप किया गया और गोल्डन बे रिसॉर्ट में बंधक बनाकर रखा गया। सर्वानन ने कहा कि वे किसी तरह वहां से भागने में सफल रहे और कार्यवाहक मुख्यमंत्री पन्नीरसेल्वम के पास पहुंचे। गौरतलब है कि पन्नीरसेल्वम के इस्तीफा देने के बाद शशिकला ने सीएम बनने तक अपने सभी विधायकों को गोल्डन बे रिसॉर्ट में ठहरा दिया था। विरोधी आरोप लगा रहे हैं कि इन विधायकों को जबरन बंधक बनाकर रखा गया है। अब वहां से निकले विधायक सर्वानन ने इस मामले में पुलिस में एफआईआर तक दर्ज करा दी है।
मुख्यमंत्री बनने की कोशिश में लगी शशिकला को अब जेल जाना होगा। आय से अधिक संपत्ति के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें चार साल की सज़ा सुनाई है। साथ ही दस करोड़ का जुर्माना भी है। अब वह  दस साल तक चुनाव नहीं लड़ सकेंगी। इसी के साथ तमिलनाडु की राजनीति में कुर्सी की लड़ाई खासी तेज़ और दिलचस्प हो गई है। अब वह अलगे दस साल तक चुनाव नहीं लड़ सकेंगी। इसी के साथ तमिलनाडु की राजनीति में कुर्सी की लड़ाई खासी तेज़ और दिलचस्प हो गई है। क्योंकि उन्होंने विधायको की बैठक में पन्नीरसेल्वम को पार्टी से निकालकर अपने भरोसेमंद पलनीसामी को विधायक दल का नेता घोषित किया जिन्होंने सरकार बनाने का दावा पेश किया है । वहीं बाद में पन्नीरसेल्वम के समर्थकों ने भी राज्यपाल से मुलाकात की। पन्नीरसेल्वम ने विधायकों से अपील की है कि वह पार्टी के लिए एकता दिखाएं।  तमिलनाडु में शशिकला समर्थकों ने दावा किया है कि राज्‍यपाल ने 125 विधायकों के समर्थन का पत्र देखने के बाद कहा है कि उन्‍हें जल्‍द ही सरकार बनाने के लिए बुलाया जाएगा।

READ  आसान नहीं होगी शशिकला की राह
×