तमिलनाडु की राजनीति में बदलाव : एआईएडीएमके के दोनों गुटों का विलय

अभिषेक रंजन सिंह, नई दिल्ली।  तमिलनाडु  की राजनीति में कई  महीनों से जारी राजनीतिक उठापटक और कयासों के बीच आज ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (एआईएडीएमके) के दोनों गुटों के बीच आपसी विलय हो गया है। पार्टी के एक धड़े का नेतृत्व मुख्यमंत्री के. पलानीसामी और दूसरे का पूर्व मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम कर रहे थे। दोनों गुटों के बीच हुए समझौते के बाद पूर्व मुख्यमंत्री ओ.पन्नीरसेल्वम अब तमिलनाडु के उपमुख्यमंत्री बनेंगे। इस अहम समझतौते के बाद दोनों गुटों के नेताओं ने पत्रकारों को बताया कि तमाम राजनीतिक गतिरोध और असहमति दूर हो गई है। साथ ही दोनों पक्ष एक-दूसरे की मांगों को स्वीकार कर चुके हैं।

इस मौके पर ओ.पन्नीरसेल्वम ने पार्टी कार्यकर्ताओं को भी संबोधित किया। अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि अम्मा (जयललिता) के सिद्धांतों पर खड़ी इस पार्टी की बेहतरी के लिए उन्होंने ऐसा किया है। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री जयललिता के निधन के बाद एआईएडीएमके में आपसी सियासी वर्चस्व को लेकर पार्टी में दो गुट बन गए थे। हालांकि दोनों गुटों के बीच हुए समझौते से एआईएडीएमके के भविष्य को लेकर उठाए जा रहे सवालों पर विराम लग गया है।

तमिलनाडु की राजनीति में हुए इस बदलाव के बाद मुख्यमंत्री के. पलानीसामी मंत्रिमंडल में फेरबदल किया जाएगा। खबरों के मुताबिक, पूर्व मुख्यमंत्री ओ.पन्नीरसेल्वम गुट के तीन लोगों को मंत्रिमंडल में स्थान मिलेगा। साथ ही ओ.पनीरसेल्वम को उपमुख्यमंत्री बनाए जाने की चर्चा भी जोरों पर है।

×