भाषाओं और सुरों से सजा “गोल्डन ड्रीम्स ऑफ गांधीजी”

ओपिनियन पोस्ट
Wed, 15 Nov, 2017 22:30 PM IST

देब दुलाल पहाड़ी।

प्रसिद्ध ग़ज़ल गायक, शांति कार्यकर्ता डॉ. श्रीनिवास ने  इज़रायल के सेंट्रल हॉल में हिब्रू, हिंदी और अंग्रेजी भाषा के संस्करणों में “गोल्डन ड्रीम्स ऑफ गांधीजी” गाया।

श्री येहुदा ग्लिक (केनेट इज़रायल संसद के सदस्य और महानिदेशक,  अंतरराष्‍ट्रीय संबंध ) की ओर से आयोजित एक विशेष बैठक में वह उनसे मिले थे। बाद में, श्रीनिवास और रवि कुमार अय्यर जो कि भारत-इजरायल मैत्री फोरम, हांगकांग के टीम लीडर भी हैं, ने इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के लिए  श्री येहूदाह ग्लिक को विशेष प्रशस्ति पत्र प्रस्तुत किया।

Dev2

इस संबंध में श्रीनिवास ने कहा कि “मैं बहुत भाग्यशाली हूं कि मुझे इजराइल में संसद के सेंट्रल हॉल में सम्मानित संसद सदस्य और अन्य शांति कार्यकर्ताओं की उपस्थिति में गाना  गाने का अवसर मिला।’’ उन्होंने विश्व शांति और अंतरराष्‍ट्रीय भाईचारे को बढ़ावा देने के लिए मिशन को आगे बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए संसद के सदस्यों को धन्यवाद दिया।

रवि कुमार अय्यर ने 125 से अधिक फिल्मों के लिए काम किया और 390 से अधिक फिल्‍मों के लिए गीत लिखे। इस साल जुलाई में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इजरायल दौरे में हाइफा शहर गए। वहां पर उन्‍होंने प्रथम विश्वयुद्ध में शहीद हुए भारतीय सैनिकों को श्रद्धांजलि दी थी।

हाइफा के युद्ध में 1,350 जर्मन और तुर्क कैदियों पर भारतीय सैनिकों ने कब्जा कर लिया था। इसी हाइफा युद्ध ने इजरायल राष्ट्र के निर्माण के रास्ते खोल दिए। 14 मई 1948 को यहूदियों का नया देश इजरायल बना था।

इस युद्ध में जोधपुर लांसर्स के कमांडर मेजर दलपत सिंह शेखावत, जो युद्ध में मारे गए थे, को मरणोपरांत सैन्य क्रॉस से सम्मानित किया गया था। जोधपुर और मैसूर लांसरों का अब भारतीय सेना में 61वीं कैवलरी रेजिमेंट द्वारा प्रतिनिधित्व किया जाता है और अभी भी हर साल 23 सितंबर को हैफा दिवस के रूप में मनाया जाता है।

READ  अमेरिका ने सैयद सलाहुद्दीन को अंतराष्ट्रीय आतंकी घोषित किया

जोधपुर लांसर सवार तगतसिंह, सवार शहजादसिंह, मेजर शेरसिंह आईओएम, दफादार धोकलसिंह, सवार गोपालसिंह और सवार सुल्तानसिंह भी इस युद्ध में शहीद हुए थे। मेजर दलपत सिंह को मिलिट्री क्रॉस जबकि कैप्टन अमान सिंह जोधा को सरदार बहादुर की उपाधि देते हुए आईओएम (इंडियन आर्डर ऑफ मेरिट) तथा ओ.बी.ई (ऑर्डर ऑफ ब्रिटिश इंपायर) से सम्मानित किया गया था।

 

 

 

 

 

 

×