राष्ट्रीय

राष्ट्रीय

प्रिंट मीडिया की वापसी का सही मौका : जेटली

नई दिल्ली। न्यूज चैनलों, डिजिटल और सोशल मीडिया के बीच मची होड़ के बावजूद प्रिंट मीडिया की वापसी का यह सही मौका है, क्योंकि विश्वसनीय और गंभीर खबरों की कमी पाठकों को फिर से इस मीडिया की ओर वापस ला सकता...

भरोसा जहां, वीरेन डंगवाल वहां..

मिथिलेश नई दिल्ली।  अस्सी के दशक की जाती हुई सर्दियों के दिन थे। तब अपना ठिकाना जबलपुर हुआ करता था। नौकरी के नाम पर था हितवाद अखबार जो कुछ ही दिनों बाद ज्ञानयुग हो गया। टीम के सहयोगी थे- हरि भटनागर, द...

अरुण जेटली ने किया ओपिनियन पोस्ट का लोकार्पण

नई दिल्ली। मंगलवार, 29 सितंबर को केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने एक गरिमापूर्ण समारोह में राष्ट्रीय पाक्षिक पत्रिका ‘ओपिनियन पोस्ट’ का लोकार्पण किया। नई दिल्ली के इंडिया हैबिटेट सेंटर में देश के पत...

सट्टाबाजार : बिहार में एनडीए की जीत पर दांव

विवेक अग्रवाल, मुंबई टीवी चैनलों के एग्जिट पोल चाहे जो भी कहें, सट्टाबाजार बिहार विधानसभा चुनाव में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) पर दांव लगा रहा है। लालू-नीतीश-कांग्रेस के महागठबंधन और एनडीए के...

श्रम सुधार में श्रमिक कहां

सुनील वर्मा/दिल्ली   विकसित राष्ट्र बनने के लिए तेजी से प्रयास कर रहे भारत में एक ऐसी श्रम व्यवस्था का होना जरूरी है जो मजदूर और कारखाना मालिक, दोनों के लिए हितकारी हो। इसे दुर्भाग्य ही कहा जाएगा कि आ...

नगा शांति समझौते पर अब भी उठ रहे सवाल

गुवाहाटी से रविशंकर रवि की रिपोर्ट गृह सचिव एलसी गोयल को अचानक हटा दिया गया और रिटायर होने जा रहे राजीव महर्षि को गृह सचिव बना दिया गया तो नगा शांति समझौता एक बार फिर चर्चा में आ गया। कहा जा रहा है कि...

राहुल बदले या अमेठी बदल रही

  राज खन्ना की अमेठी से विशेष रिपोर्ट अमेठी अनमनी है। कसमसा रही है। उसे शोहरत और सुर्खियां दिलाने वाला गांधी परिवार सत्ता से बाहर है। राहुल गांधी तीसरी बार अमेठी से संसद में पहुंचे हैं। दो मौकों...

×