स्मार्टफोन फोटोग्राफी के बढ़ते क्रेज का गहरा असर कैमरा इंडस्ट्री पर पड़ा है. जापान  स्थित कैमरा एंड इमेजिंग प्रोडक्ट्स एसोसिएशन (ष्टढ्ढक्क्र) की एक रिपोर्ट के अनुसार 2010 में 120 मिलियन कैमरे बीके थे, ये संख्या 2017 तक घटकर 25 मिलियन तक रह गई. इस दौरान कैमरों की बिक्री में 80 फीसद की गिरावट देखी गई. वहीं 2017 की तुलना में 2018 के शुरुआत में कैमरों की बिक्री में 28 फीसद की गिरावट आई. ष्टढ्ढक्क्रग्रुप के सदस्यों में ओलम्पस, कैनॉन और निकॉन जैसे कैमरों के बड़े ब्रांड शामिल हैं. सस्ते इंटरनेट के जमाने में लगभग हर व्यक्ति के पास स्मार्टफोन उपलब्ध है. और हर वो व्यक्ति जिसके पास स्मार्टफोन है, अपने आप में एक फोटोग्राफर है. टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में भी रोज ही कुछ नया हो रहा है, जिससे स्मार्टफोन कैमरा की क्वालिटी में भी सुधार आताजा रहा है.

ऐसे में लोगों का रुझान प्रोफेशनल कैमरा की ओर से हटता जा रहा है. कुछ सालों पहले तक कैमरा यूज करने वाले लोग ही फोटोग्राफर कहलाते थे. लेकिन आज कल हर स्मार्टफोन यूजर एक प्रोफेशनल फोटोग्राफर बन चुका है.

READ  Honor 10 Lite पढ़कर जाने इस मोबाइल की खासियत