अरशद वारसी को एडल्ट कॉमेडीज से परहेज है. हालांकि, उनके करियर की ज्यादातर फिल्में इसी जॉनर के इर्द-गिर्द घूमती रही हैं और हालिया फ्लॉप फ्रॉड सैंया तो डबल मीनिंग वाले संवादों से भरी पड़ी है. गोलमाल सीरीज और धमाल सीरीज में भी वह कोई सामाजिक व्यंग्य नहीं कर रहे थे, लेकिन अचानक उन्हें दिव्य ज्ञान हुआ, मुझे इस तरह कॉमेडीज नहीं करनी चाहिए. उसकी वजह बताते हुए वह कहते हैं, मैं इसे करने में सहज नहीं हूं, क्योंकि मेरे भी बच्चे हैं. मैं नहीं चाहता कि वे मुझे ऐसा करता देखें. वैसे बच्चे तो सबके हैं, लेकिन उन्हें कोई अगली वेब सीरीज या फिल्म इसी जॉनर की मिल गई तो देखना होगा कि उनका दिव्य ज्ञान कब तक शाश्वत रहता है.

READ  मैं कंगना हूं...