न्यूज फ्लैश

डाटा लीक मामले में जुकरबर्ग ने मांगी माफी, कहा भारतीय चुनावों में बरतेंगे सतर्कता

सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक के संस्थापक मार्क जकरबर्ग ने डेटा लीक मामले में अमेरिकी कांग्रेस के सामने पेश होकर माफी मांगी। जकरबर्ग ने अमेरिकी कांग्रेस के सामने कैंब्रिज एनालिटिका डेटा लीक को लेकर कई तीखे सवालों के जवाब दिए। 44 सीनेटर्स ने जकरबर्ग से सवाल पूछे, जिनका उन्होंने जवाब दिया।

जकरबर्ग ने डेटा लीक की जिम्मेदारी लेते हुए अमेरिकी कांग्रेस से माफी मांगी। उन्होंने कहा, ‘यह मेरी गलती है और मैं इसके लिए माफी मांगता हूं। मैंने फेसबुक शुरू किया, मैं इसे चलाता हूं और यहां जो कुछ भी होता है उसके लिए मैं जिम्मेदार हूं।’

जकरबर्ग ने भारत में अगले साल होने वाले आम चुनावों के दौरान लोगों का भरोसा बहाल करने का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा, भारत में आने वाले चुनावों में पूरी ईमानदारी बरती जाएगी।

डेटा लीक पर जकरबर्ग ने कहा कि वह टूल्स के गलत इस्तेमाल को नहीं रोक पाए। उन्होंने कहा, ‘हम फेक न्यूज, हेट स्पीच, चुनावों में विदेशी हस्तक्षेप, डेटा प्राइवेसी जैसे नुकसान को नहीं रोक पाए।’ अपनी गलती मानते हुए जकरबर्ग ने कहा कि यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम न केवल टूल्स बनाएं, बल्कि इस बात का भी ध्यान रखें कि उसका सही और बेहतर इस्तेमाल हो।

जकरबर्ग ने कहा, ‘हम इसके गलत इस्तेमाल को रोकने के लिए पर्याप्त कदम नहीं उठा पाए। हम अपनी जिम्मेदारी को बेहतर तरीके से नहीं निभा पाए। यह बड़ी गलती है और मैं माफी मांगता हूं। मैंने फेसबुक शुरू किया, मैं इसे चलाता हूं और यहां जो कुछ भी होता है उसके लिए मैं ही जिम्मेदार भी हूं।’

फेसबुक के फाउंडर जकरबर्ग ने चुनावों को लेकर कहा कि वह लोगों के भरोसे को बहाल करेंगे। उन्होंने कहा, ‘साल 2018 पूरी दुनिया के लिए एक महत्वपूर्ण साल है। भारत, पाकिस्तान जैसे कई देशों में चुनाव होने हैं। हम यह सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे कि ये चुनाव सुरक्षित हों।’

जकरबर्ग ने कहा कि मुझे पता नहीं था कैंब्रिज एनालिटिका ट्रंप के लिए कैंपेन कर रही है। उन्होंने कहा, ‘हम जांच कर रहे हैं कि कैंब्रिज एनालिटिका ने क्या और कैसे गोपनीय जानकारी जुटाई। अब हमें पता है कि उन्होंने किसी ऐप डिवेलपर से खरीद कर लाखों लोगों की जानकारी, जैसे नाम, प्रोफाइल पिक्चर्स और फॉलो किए जाने वाले पेजों की जानकारी गलत तरीके से जुटाई है।’ जकरबर्ग ने कहा कि यूजर्स की निजी जानकारियों को बाहरी लोगों से बचाने के लिए कंपनी ने कई कदम उठाए हैं।‘

जुकरबर्ग ने सीनेट की वाणिज्य और न्यायपालिका समितियों के सामने अपनी टिप्पणियों की शुरूआत डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति पद के अभियान से जुड़ी डेटा फर्म कैंब्रिज एनालिटिका को चुनावों को प्रभावित करने की कोशिश में 8.7 करोड़ उपयोगकर्ताओं से निजी जानकारी एकत्रित करने से रोकने में नाकाम रहने की जिम्मेदारी लेते हुए की थी।

जकरबर्ग पहले भी उपयोगकर्ताओं और जनता से कई बार माफी मांग चुके हैं लेकिन यह उनके करियर में पहली बार है जब वह संसद के सामने उपस्थित हुए हैं।

The following two tabs change content below.
ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।
ओपिनियन पोस्ट
About ओपिनियन पोस्ट (3808 Articles)
ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।

Leave a comment

Your email address will not be published.

*