न्यूज फ्लैश

महिलाएं क्या पहनें यह उनकी मर्जी- सउदी अरब प्रिंस

क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के साउदी गद्दी के वारिस बनने के बाद महिलाओं पर से कईं तरह की पाबंदियां हटा ली गई हैं। जिसमें नए फैसले के मुताबिक महिलाएं क्या पहनें यह उनकी मर्जी होगी। दरअसल,, सऊदी अरब में महिलाओं पर कई तरह की पाबंदियां रही हैं। उनके पहनावे और उनके व्यवहार पर सख्त नियम लागू होते हैं। अमेरिकी टीवी चैनल सीबीएस के साथ इंटरव्यू में क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने कहा कि महिलाएं यह तय करने में सक्षम होनी चाहिए कि उन्हें क्या पहनना है।

सीबीएस के 60 मिनट्स शो में सऊदी क्राउन प्रिंस ने कहा “कानून बहुत स्पष्ट है और शरिया में लिखा है कि महिलाओं को शालीन और सम्मानजनक कपड़े पहनने चाहिए, पुरूषों की तरह। इसमें कहीं यह नहीं कहा गया है कि उन्हें काला अबाया (सर से पैर तक शरीर को ढंकने वाले कपड़ा) या काला नकाब पहनना चाहिए।”

हालांकि प्रिंस मोहम्मद का बयान सऊदी अरब में महिला अधिकारों को और बढ़ावा देने की तरफ इशारा करता है। सऊदी अरब में शरिया कानून को लागू करने का कोई लिखित कानून नहीं है। लेकिन न्यायपालिका और पुलिस ने पहनावे को लेकर कड़े नियम लागू किए हैं। इनके तहत महिलाओं को अबाया पहनना और सार्वजनिक जगहों पर अपना चेहरा और बाल ढंकने जरूरी है।

प्रिंस मोहम्मद ने सऊदी अरब में कई बड़े बदलाव किए हैं। इनमें महिलाओं को पुरूषों के साथ बैठ कर स्टेडियम में मैच देखने की अनुमति, कार चलाने की अनुमति दी गई है इसके साथ ही अब सऊदी अरब में सिनेमा दिखाने को भी मंजूरी मिल गई है। बता दें कि सऊदी क्राउन प्रिंस मंगलवार को अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप से मुलाकात करने वाले हैं।

The following two tabs change content below.
ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।
ओपिनियन पोस्ट
About ओपिनियन पोस्ट (4594 Articles)
ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।

Leave a comment

Your email address will not be published.


*