न्यूज फ्लैश

सुरक्षा में हुई बड़ी चूक, भारत के सात दूतावासों की वेबसाइट हैक

हैकर्स का दावा, अन्य भारतीय दूतावासों की भी वेबसाइट्स सुरक्षित नहीं

नई दिल्ली। भारत की साइबर सुरक्षा में एक बड़ी चूक सामने आई है। यूरोप और अफ्रीका में भारत के सात दूतावासों के वेबसाइट और डाटाबेस को कथित तौर पर हैक करके उनके डाटा को ऑनलाइन कर दिया गया है। ट्विटर के हैंडल से दो हैकरों ने दावा किया है कि उसने साउथ अफ्रीका, लीबिया, मलावी, माली, इटली और स्विट्जरलैंड और रोमानिया स्थित भारतीय दूतावासों की ऑफिशियल वेबसाइट की सुरक्षा में सेंध लगाई है।

pastebin.com पर दूतावास के स्टाफर्स की एडमिन और लॉगिन डिटेल्स, नाम, ईमेल आईडी, फोन नंबर्स और पासपोर्ट नंबर प्रकाशित हुए थे। हालांकि pastebin के प्रबंधकों ने इस जानकारी को बाद में हटा लिया।

कथित तौर पर हैकर्स ने साउथ अफ्रीका में रहने वाले 161 भारतीय नागरिकों, स्विट्जरलैंड में रहने वाले 35,  इटली में रहने वाले 145,  लीबिया में रहने वाले 305,  मलावी में रहने वाले 74,  माली में रहने वाले 14 और रोमानिया में रहने वाले 42 भारतीय नागरिकों की जानकारी लीक की है।

एक हैकर ने कहा, “हमने ऐसा इसलिए किया कि वहां की सुरक्षा बेहद कमजोर है और भारतीय दूतावास को बेहतर सुरक्षा तंत्र की जरूरत है।” हैकर्स का दावा है कि अन्य भारतीय दूतावासों की भी वेबसाइट्स सुरक्षित नहीं है। उनके अनुसार छह साल का बच्चा भी भारतीय दूतावासों के वेबसाइट को हैक कर सकता है।

सबसे पहले साउथ अफ्रिका स्थित भारतीय दूतावास को हैक किया गया और उसके बाद स्विट्जरलैंड और इटली का नंबर आया। अभी तक भारतीय विदेश मंत्रालय ने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

The following two tabs change content below.
ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।
ओपिनियन पोस्ट
About ओपिनियन पोस्ट (4594 Articles)
ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।

Leave a comment

Your email address will not be published.


*