मुस्लिम लॉ बोर्ड . सुप्रीम कोर्ट . तलाक . शायरा बानो

मुस्लिम लॉ बोर्ड . सुप्रीम कोर्ट . तलाक . शायरा बानो

इंसाफ के तराजू पर तलाक, तलाक, तलाक

संध्या द्विवेदी जब निकाह के वक्त शौहर और बीवी दोनों की रजामंदी की जरूरत होती है तो फिर तलाक के वक्त क्यों नहीं, मौजूदा हलाला की व्यवस्था औरतों की इज्जत के साथ खिलवाड़ है, बहुविवाह के जरिए यह बताया जाता...

मुस्लिम लॉ बोर्ड कर सकता है सुप्रीम कोर्ट का रूख

तीन बार तलाक कह कर तलाक लेने की प्रथा को लेकर मुस्लिम लॉ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट का रूख करने का मन बना लिया है। बोर्ड का कहना है कि वह इस प्रथा में किसी भी तरह के बदलाव या छेड़छाड़ को कतई बर्दाश्त नहीं...

×