न्यूज फ्लैश

नक्सलियों ने बारूदी सुरंग उड़ाई, 9 जवान शहीद

छत्तीसगढ़ के सुकमा में नक्सली हमले पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर जताया दुख

सुकमा।

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में नक्सलियों ने 13 मार्च को बारूदी सुरंग में विस्फोट कर सेना के एंटी लैंडमाइन वाहन को उड़ा दिया, जिससे केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 9 जवान शहीद हो गए। छह जवान घायल भी हुए हैं। चार की हालत गंभीर बताई जा रही है।

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, ‘सुकमा हमले में शहीद हुए जवानों के परिवारों के लिए मैं सहानुभूति व्यक्त करता हूं। मैं घायल जवानों के तेजी से ठीक होने की प्रार्थना करता हूं।’

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर कहा, ‘मैंने सुकमा घटना के बारे में डीजी सीआरपीएफ से बात की और छत्तीसगढ़ जाने को कहा है।’ नक्‍सल रोधी ऑपरेशन के स्‍पेशल डीजी,  डीएम अवस्‍थी ने बताया, ‘किस्‍टाराम से पलोडी जा रही पेट्रोलिंग पार्टी पर नक्‍सलियों ने आईईडी ब्‍लास्‍ट किया। अतिरिक्‍त सैन्‍य बल मौके पर पहुंच गया है। फिलहाल फायरिंग बंद है।’

बताया जा रहा है कि किस्टाराम कैंप से 212 बटालियन की टीमें गश्त में निकली थीं। तभी करीब साढ़े सात बजे सुबह नक्सलियों ने उन पर फायरिंग शुरू कर दी। करीब 150 की संख्या में नक्सली वहां पर थे। उन्होंने जवानों पर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। इसके जवाब में जवानों ने मोर्चा संभाला। इस दौरान नक्सलियों ने कई विस्फोट किए। नक्सली जंगल का फायदा उठाकर भाग गए।

शुरुआती दौर में पुलिस की ओर से दावे किए जा रहे हैं कि मुठभेड़ में नक्सली भी मारे गए हैं। हालांकि संख्या को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं है। इस घटना को लेकर आईबी का पहले से अलर्ट था। इसमें नक्सलियों द्वारा बड़ी घटना को अंजाम देने की साजिश करना बताया गया था।

मुख्‍यमंत्री रमन सिंह ने एक दिन पहले बस्तर संभाग के कांकेर जिले के घुर नक्सल प्रभावित क्षेत्र इंजरम में लोक सुराज अभियान की शुरुआत की थी। सीएम ने यहां चौपाल लगाकर लोगों की समस्या सुनी थी और बाइक से इस इलाके का दौरा किया था।

अब तक के बड़े नक्सली हमले

25 मई 2013 : छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में एक हजार से ज्यादा नक्सलियों ने कांग्रेस की परिवर्तन यात्रा पर हमला कर दिया। इस हादसे में कांग्रेस नेता विद्याचरण शुक्ल,  महेंद्र कर्मा और नंदकुमार पटेल समेत 25 लोगों की मौत हो गई थी और कई अन्य घायल हो गए थे।

6 अप्रैल 2010 : दंतेवाड़ा जिले के चिंतलनार जंगल में नक्सलियों ने सीआरपीएफ के 75 जवानों सहित 76 लोगों की हत्या कर दी।

4 अप्रैल 2010 : ओडिशा के कोरापुट जिले में पुलिस की एक बस पर हमला, विशेष कार्य दल के 10 जवान मरे, 16 घायल।

23 मार्च 2010 : बिहार के गया जिले में रेलवे लाइन पर विस्फोट करके भुवनेश्वर-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस को पटरी से उतारा। इसी दिन ओडिशा की रेलवे पटरी पर हमला करके हावड़ा-मुंबई लाइन क्षतिग्रस्त की।

15 फरवरी 2010 : पश्चिम बंगाल के सिल्दा में करीब 100 नक्सलियों ने पुलिस कैंप पर हमला करके 24 जवानों की हत्या की, हथियार लूटे।

8 अक्टूबर 2009 : महाराष्ट्र के गढ़चिरौली जिले में लाहिड़ी पुलिस थाने पर हमला करके 17 पुलिसवालों की हत्या की।

The following two tabs change content below.
ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।
ओपिनियन पोस्ट
About ओपिनियन पोस्ट (4399 Articles)
ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।

Leave a comment

Your email address will not be published.

*