न्यूज फ्लैश

पुलिस की गोली से ‘एप्पल’ के एरिया मैनेजर की मौत

परिवार का आरोप-हादसा नहीं हत्या है यह, दो सिपाही गिरफ्तार, एक ने कहा-आत्मरक्षा में चलाई गोली

ओपिनियन पोस्‍ट।

थोड़ी सी चूक कितना अनर्थ कर देती है, उसका एक ज्‍वलंत उदाहरण लखनऊ के गोमतीनगर में शुक्रवार को रात डेढ़ बजे सामने आया। कुछ ऐसी गलतफहमी हुई कि पुलिस की गोली से ‘एप्पल’ के एरिया मैनेजर की मौत हो गई। परिजन इसे हत्‍या का मामला करार दे रहे हैं, तो सिपाहियों का कहना है कि उन्‍होंने आत्‍मरक्षा में गोली चलाई।

हुआ यूं कि ‘एप्पल’ कंपनी के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी अपनी सहकर्मी सना खान को उसके घर छोड़ने जा रहे थे। पुलिस वालों ने उन्‍हें रुकने का इशारा किया, लेकिन विवेक तिवारी ने कार नहीं रोकी और भागने लगे। इसी अफरा तफरी में कार एक बाइक और अंडरपास की दीवार से टकरा गई। उनको इस तरह भागता देख पुलिस वालों ने गोली चला दी जो विवेक तिवारी के सिर में जा लगी, जिससे उनकी मौत हो गई।

एक अन्‍य समाचार स्रोत के अनुसार, उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में गोमती नगर में शुक्रवार देर रात करीब पौने तीन बजे मकदूमपुर पुलिस चौकी के पास दो सिपाहियों ने एसयूवी में सवार ‘एप्पल’ के एरिया सेल्स मैनेजर विवेक तिवारी को गोली मार दी। गोली लगते ही उसका संतुलन बिगड़ गया और गाड़ी डिवाइडर से टकरा गई।

सिर पर गोली लगने से विवेक की मौके पर ही मौत हो गई। यह देखते ही दोनों आरोपी सिपाही मौके से भाग निकले। दूसरे पुलिसकर्मियों ने विवेक को अस्पताल पहुंचाया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। कार में मौजूद सना की शिकायत पर पुलिस ने केस दर्ज कर फायरिंग करने वाले कांस्टेबल प्रशांत कुमार और संदीप को गिरफ्तार कर लिया है। प्रारंभिक जांच के बाद दोनों आरोपी सिपाहियों को बर्खास्त कर दिया गया।

इस प्रकार ‘एप्पल’ के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी की हत्या का आरोप उत्तर प्रदेश पुलिस पर लगा है। इस सिलसिले में दो सिपाहियों संदीप और प्रशांत चौधरी को गिरफ्तार कर लिया गया है। एसएसपी कलानिधि नैथानी ने शनिवार को बताया कि घटना शुक्रवार रात लखनऊ के गोमतीनगर इलाके में हुई। मामले की जांच के लिए एसपी क्राइम की अगुआई में एसआईटी गठित की गई है। दोनों सिपाहियों को जेल भेज दिया गया है।

विवेक के साथ कार में मौजूद सना खान की शिकायत पर हत्या का केस दर्ज हुआ है। सना ने शिकायत में बताया, ”मैं रात को विवेक के साथ घर जा रही थी। सामने से दो सिपाही आए और रोकने लगे। विवेक ने बचने के लिए कार साइड से निकाले की कोशिश की। इस दौरान गाड़ी एक बाइक और अंडरपास की दीवार से टकरा गई।”

उधर, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में विवेक के सिर में गोली लगने की पुष्टि हुई है। इससे पहले आरोपी सिपाही प्रशांत ने कहा कि उसने आत्मरक्षा में गोली चलाई, क्‍योंकि कार सवार ने उसकी बाइक को टक्कर मारी थी।

The following two tabs change content below.
ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।
ओपिनियन पोस्ट
About ओपिनियन पोस्ट (4436 Articles)
ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।

Leave a comment

Your email address will not be published.

*