न्यूज फ्लैश

स्मार्टफोन गेम पोकेमॉन गो का विरोध क्‍यों ?

याचिका में कहा गया, इस गेम से आहत होती हैं धार्मिक भावनाएं, देश की सुरक्षा को भी खतरा

अहमदाबाद। ऑगमेंटेड रिएलिटी और जीपीएस बेस्ड पॉपुलर स्मार्टफोन गेम पोकेमॉन गो जीवन के लिए खतरा तो है ही, लोगों की धार्मिक भावनाओं को भी ठेस पहुंचा रहा है। तभी तो इसका भारत में भी विरोध शुरू हो गया है। गुजरात हाईकोर्ट में एक पीआईएल दाखिल कर इस पर रोक लगाने की मांग की गई है। हाईकोर्ट ने केंद्र और गुजरात सरकार समेत गेम के सैन फ्रांसिस्को स्थित डेवलपर Niantic Inc. को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। कोर्ट ने विदेशी कंपनी को नॉर्मल प्रॉसिजर के अलावा ई-मेल से भी नोटिस जारी करने का आदेश दिया है।

याचिका अलय दवे नाम के शख्स ने दायर की है। इसमें कहा गया है कि पोकेमॉन गो गेम से धार्मिक भावनाएं आहत होती हैं। इससे देश की सुरक्षा को भी खतरा है। हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस आर सुभाष रेड्डी और जस्टिस वीएम पंचोली की डिवीजन बेंच ने बुधवार को इस मामले की सुनवाई की और नोटिस जारी करने का आदेश दिया। पीआईएल में यह भी कहा गया है कि इस ऑगमेंटेड रिएलिटी गेम में धार्मिक समूहों की पूजा के स्थान पर अंडे की इमेज को दिखाया गया है, जो सही नहीं है। ‘अंडे को नॉन वेजिटेरियन फूड माना जाता है। हिंदुओं और जैनियों के पूजा के स्थान पर इसे ले जाना धर्म का अपमान करना है।’ पिटिशनर के वकील नचिकेत दवे ने कहा, ‘लोग इस गेम में पूजा की जगहों पर वर्चुअल एग्स को ले जाकर प्वाइंट्स जुटाते हैं। इसीलिए हमने इसे बैन करने की मांग की है।’

पीआईएल में कहा गया है कि इस गेम को सर्विलांस टूल के तौर पर भी यूज किया जा सकता है। इससे देश की सुरक्षा को खतरा पैदा हो सकता है। पिटिशनर ने अपने तर्क के सपोर्ट में अमेरिका की मिसौरी में हुई घटना का उदाहरण भी दिया है, जहां पोकेमॉन गो के geo-location की मदद से डकैती की वारदात को अंजाम दिया गया था। इसके अलावा यह तर्क भी दिया गया है कि इस गेम से लोगों की प्राइवेसी में भी दखल पड़ती है। इसे खेलने वालों की जान पर भी खतरा होता है। इसलिए सोशल, रिलिजियस और नेशनल सिक्युरिटी के हित में इस गेम को बैन किया जाए।

भारत में पोकेमॉन-गो खेलते वक्त एक्सीडेंट का पहला मामला जुलाई के आखिरी हफ्ते में मुंबई में सामने आया था। 26 साल के कार डीलर जब्बीर अली ने अपनी मर्सडीज गेम खेलते वक्त एक ऑटोरिक्शा से भिड़ा दी थी। इस हादसे में कोई हताहत नहीं हुआ, लेकिन पुलिस ने अली के खिलाफ केस दर्ज कर लिया था। पोकेमॉन गो एक ऑगमेंटेड रिएलिटी और जीपीएस बेस्ड गेम है। इसे Niantic Labs ने बनाया है। इसी साल जुलाई में इस गेम को 26 और देशों में ऑफिशियली लॉन्च किया गया। हालांकि भारत में अभी तक ऑफिशियल लॉन्चिंग नहीं हुई है।

The following two tabs change content below.
ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।
ओपिनियन पोस्ट
About ओपिनियन पोस्ट (4594 Articles)
ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।

Leave a comment

Your email address will not be published.


*