NIT में हालात और बिगड़े, मीडिया में आई छात्रों की तस्वीरें

जम्मू कश्मीर की राजधानी श्रीनगर के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एनआईटी) कैंपस के स्टूडेंट्स पर लाठीचार्ज पर विवाद बढ़ गया है। पिछले हफ्ते टी-20 विश्व कप में भारत की हार के बाद छात्रों के बीच हुई झड़प की वजह से तनावग्रस्त संस्थान में सीआरपीएफ भी तैनात कर दी गई है।

वहीं, केंद्रीय मंत्री जीतेंद्र सिंह ने ट्वीट किया कि एचआरडी की टीम श्रीनगर एनआईटी पहुंच रही है और वो इस मामले को देखेगी। साथ ही, छात्रों की इस पिटाई पर केन्द्र ने जांच के लिए दो सदस्यीय टीम एनआईटी भेजी है।

श्रीनगर में राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान के हालात और बिगड़ते नजर आ रहे हैं। सुरक्षा की मांग कर रहे छात्रों पर हमले में कई के जख्मी होने की खबर है। छात्रों ने अपनी तस्वीरें मीडिया तक पहुंचाई हैं। तस्वीरों में साफ देखा जा सकता है कि छात्रों को बुरी तरह से पीटा गया है। तस्वीरें वायरल होने के बाद से छात्रों के अभिवावक परेशान हैं। इस बीच एचआरडी मंत्रालय ने मामले की जांच के लिए एक दो सदस्यीय टीम भेजने की घोषणा की है।

गृहमंत्री ने की मुख्यमंत्री से बात

वहीं इस मामले पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती से बात की है। उन्होंने ट्वीट कर जानकारी दी है कि मुख्य़मंत्री ने इस मामले में तुरंत कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है।

केजरीवाल ने की पुलिस कार्रवाई की निंदा

वहीं दूसरी ओर दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने एनआईटी-श्रीनगर में पुलिस कार्रवाई की निंदा की है साथ ही बीजेपी और पीडीपी पर निशाना साधते हुए कहा कि इस कार्रवाई को तुरंत रोकना चाहिए।

छात्रों की मांगे

छात्र अपनी सुरक्षा के लिए एनआइटी में केंद्रीय सुरक्षाबलों की तैनाती, कैंटीन संचालक को बदलने, राष्ट्रविरोधी तत्वों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने और मीडिया को परिसर में प्रवेश करने की अनुमति देने की मांग कर रहे हैं। इसके साथ छात्र चाहते हैं कि एमएचआरडी के प्रतिनिधियों के साथ उनका सीधा संवाद करवाया जाए। कई अध्यापकों व स्थानीय छात्र उन्हें परिसर में तिरंगा लहराने के लिए गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दे रहे हैं। साथ ही उन्हें फेल करने की धमकी भी दे रहे हैं।

कैसे शुरू हुआ पूरा मामला

गौरतलब है कि टी-20 विश्व कप के सेमीफाइनल मैच में वेस्टइंडीज के हाथों भारत की हार को लेकर पिछले शुक्रवार को एनआईटी श्रीनगर में स्थानीय और बाहरी राज्यों से आए छात्रों के बीच झड़प हो गई थीं, जिस कारण संस्थान को बंद कर दिया गया है ।हालांकि इसके बाद सोमवार से संस्थान में सामान्य रूप से कक्षाएं चल रही थीं। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने कहा था कि एनआईटी श्रीनगर में स्थिति सामान्य हो गई। एनआईटी में करीब 2500 छात्र और 400 अकादमी स्टाफ सदस्य हैं। संस्थान के ज्यादातर छात्र राज्य से बाहर के हैं।

×