केसरिया हुए बनारसिया चुनाव में दिखी मोदी की ताक़त

ओपिनियन पोस्ट
Sat, 04 Mar, 2017 22:14 PM IST

सुनील वर्मा
नई दिल्ली । यूपी में सातवें फेज की वोटिंग से पहले और छठे दौर की वोटिंग के दिन पीएम मोदी का संसदीय क्षेत्र बनारस आज पूरी तरह केसरिया रंग से सराबोर हो गया । पीएम नरेंद्र मोदी आज लोकसभा चुनाव के तीन साल बाद अपने संसदीय क्षेत्र में सात किलोमीटर लंबा रोड शो करके न सिर्फ अपने क्षेत्र की विधान सभा सीटों के परिणाम की तस्वीर दिखा दी । बल्कि इन आरोपों का भी जवाब दे दिया की उनकी लोकप्रियता में पहले से ज्यादा इजाफा हुआ है ।
मोदीमय हुआ पूरा काशी
शनिवार को पूरा बनारस मोदी मय था और हर तरफ केसरिया रंग दिखाई दे रहा था । सबसे पहले आज सुबह पीएम नरेंद्र मोदी बाबतपुर एयरपोर्ट से बीएचयू पहुंचे। वहां उन्‍होंने महामना मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा पर माल्‍यार्पण किया। पंडित मदन मोहन मालवीय को श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद खुली गाड़ी में हजारों समर्थकों के साथ मोदी जब काशी की सड़कों पर निकले तो उनकी एक झलक पाने के लिए सड़क के दोनों ओर भारी संख्या में लोग उमड़ पड़े। बीएचयू से शुरू हुआ यह रोड शो रविदास गेट से लंका, अस्सी, भदैनी, सोनारपुरा, बुनकर बहुल मदनपुरा, बांसफाटक होते हुए पहले बाबा विश्वनाथ मंदिर के दर्शन किये और फिर आखिर में मोदी पहली बार काशी के कोतवाल कहे जाने नाले कालभैरव के दर्शन करने पहुंचे। जहां उन्होंने पूजा अर्चना की और उसके बाद जौनपुर में एक चुनावी सभा के लिए रवाना हो गए । भोलेनाथ की नगरी में रोड शो के दौरान पीएम मोदी के काफिले पर उनके समर्थकों ने लगातार फूलों की बारिश की। रोड शो के आगे पीछे हजारों की संख्या में बीजेपी कार्यकर्ता और समर्थक चल रहे थे। इस दौरान ‘मोदी-मोदी’ और ‘जय श्रीराम’ के नारे गूंज रहे थे। काशी की संकरी गलियों से होता हुआ मोदी का काफिला जब काशी विश्वनाथ मंदिर की ओर बढ़ा तो सड़क किनारे बने मकानों की छतों पर बड़ी संख्या में लोग उन्हें देखने के लिए खड़े थे। मोदी हाथ हिलाकर सड़क के दोनों ओर मौजूद लोगों का अभिवादन करते नजर गए।
रैली में मोदी ने खुद को बताया छोटा सा कार्यकर्ता
शाम को जौनपुर से वापस लौटने के पीएम नरेंद्र मोदी ने वाराणसी के टाउन हॉल में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा कि मैं भले पीएम हूं , पर भाजपा का एक छोटा सा कार्यकर्ता भी हूं। उन्‍होंने कहा कि लोकसभा चुनाव के दौरान मैंने दो जगह से चुनाव जीता था। वडोदरा और काशी दोनों ने मुझे मौका दिया। चाहता तो वडोदरा से पीएम बन जाता। पर मैंने काशी को चुना। पीएम मोदी ने भोजपुरी भाषा में भाषण की शुरुआत की। उन्‍होंने कहा कि पार्टी की इच्‍छा थी कि वाराणसी लोकसभा क्षेत्र में एक रैली करूं। मैंने कहा कि काशी जाऊं या न जाऊं काशी का सांसद होने के नाते कह सकता हूं कि चुनाव जीत जाओगे। पर काशी की जनता-जनार्दन को शुक्रिया कहना चाहता हूं क्‍योंकि आपने मुझे सेवा का मौका दिया है। उन्‍होंने कहा कि काशी ऐसा हो जिसमें विरासत भी हो वाई-फाई भी हो। जैसे गंगा मां बहती रहती हैं, वैसे ही मेरा काशी भी हो। उन्‍होंने कहा कि काशी एक शहर नहीं बल्कि एक सभ्‍यता की पहचान भी है। हमारा प्रयास है कि हम उत्‍तम काशी को बना सके। उन्‍होंने कहा कि मैं 24 घंटें बिजली देने का वादा करता हूं, मुझे गंगा मैय्या की कसम खाने की जरूरत नही है। उन्‍होंने अखिलेश यादव पर हमला करते हुए कहा कि वो 24 घंटें बिजली दिए जाने का झूठा वादा करते हैं और जब आज वो मंदिर पूजा करने जा रहे थे तो बिजली चली गई।
modi-at-vishvanathबनारस में पूरी ताकत क्योँ झोंक रहे मोदी
वाराणसी में कुल आठ विधानसभा क्षेत्र हैं। सेवापुरी, शिवपुरी, अजगरा, पिंडरा, शहर उत्तरी, शहर दक्षिणी, बनारस कैंट और रोहनियां। पिछले विधानसभा चुनाव 2012 में बनारस की तीन सीटों वाराणसी कैंट, वाराणसी उत्तरी और वाराणसी दक्षिणी सीटों पर भाजपा का कब्जा रहा था। फिलहाल बनारस में भाजपा को इन अपनी तीनों सीटें बचाने के लिए एड़ी चोटी का संघर्ष करना पड् रहा है, जबकि सेवापुरी विधानसभा में भी कांटे की टक्कर दिखाई दे रही है। इसीलिए मोदी के संसदीय क्षेत्र भाजपा ने अपनी साख बचाने की जददोजहद में पूरे केंद्रीय नेतृत्व को बनारस में झोंक दिया है ।
टिकट कटने से नाराज पूर्व विधायक को भी मना लिया
अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में रोड शो करने आए पीएम मोदी ने आज बीजेपी के नाराज नेता श्यामदेव रॉय चौधरी को भी मना लिया जिन्हें वे हाथ पकड़कर काशी विश्वनाथ मंदिर के अंदर ले गए। श्यामदेव रॉय चौधरी बीजेपी के वरिष्ठ नेता है और टिकट न मिलने के कारण नाराज बताए जा रहे थे। काशी विश्वनाथ के दर्शन के दौरान पीएम मोदी जब मंदिर के अंदर जाने तो भी श्यामदेव रॉय चौधरी बाहर ही खड़े रहे। इसके बाद पीएम मोदी ने उनका हाथ पकड़ा और उन्हें अपने साथ अंदर ले गए। दरअसल, इस बार श्यामदेव रॉय चौधरी को विधानसभा चुनाव में टिकट नहीं मिला। जिससे चौधरी और उनके समर्थक नाराज बताए जा रहे थे। उम्मीद की जा रही है कि पीएम मोदी, श्यामदेव राय चौधरी की नाराजगी दूर करने में सफल हुए होंगे।
मोदी के मेगा शो का राहुल, अखिलेश और डिंपल ने दिया जवाब
RAHUL-AKHILEH-SHOWशनिवार को दिन में मोदी के रोड शो के बाद समाजवादी पार्टी और कांग्रेस का संयुक्त रोड शो भी निकला जिसके रथ पर राहुल-अखिलेश साथ डिंपल भी सवार दिखीं। रोड शो के दौरान एक मौका ऐसा आया जब अप्रिय स्थिति बनते दिखाई पड़ी। अखिलेश-राहुल के रोड शो के दौरान एसपी-बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक झड़प के दौरान पत्थरबाजी की घटना भी हुई। हालांकि पुलिस की तत्परता से इस घटना पर तुरंत काबू पा लिया गया। राहुल-अखिलेश का रोड शो जब वाराणसी के चौकाघाट पहुंचा तभी दोनों पक्षों के समर्थकों में झड़प हो गई।
रोड शो के अंत में यूपी सीएम अखिलेश यादव अपनी पत्नी डिंपल और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के साथ विश्वनाथ मंदिर में दर्शन किया। अखिलेश यादव ने गंगा सफाई का वादा पूरा नहीं होने का मुद्दा उठाते हुए कहा कि इस बार गंगा मैया भी बदला लेने के लिए तैयार हैं। अखिलेश के बाद अपने संबोधन में राहुल गांधी ने भी पीएम मोदी पर जमकर निशाना साधा।
अखिलेश यादव ने अपने काम का हवाला देते हुए बीजेपी पर निशाना साधा। अखिलेश ने कहा, ‘हमारी गंगा मैया 2500 किमी की हैं अगर 500 किमी भी साफ की है तो बताओ। मैंने उनसे (बीजेपी) कहा कि हमारे 5 साल का हिसाब-किताब ले लो और अपने 3 साल का हिसाब किताब दे दो।’ अखिलेश ने वाराणसी में कांग्रेस उम्मीदवारों के लिए वोट देने की अपील की। अखिलेश ने कहा कि वे (बीजेपी) कब्रिस्तान और श्मशान की बात करना चाहते हैं और हम लैपटॉप-स्मार्टफोन की।
अखिलेश के संबोधन के बाद बीजेपी और पीएम मोदी पर निशाना साधने का जिम्मा राहुल गांधी ने उठाया। राहुल ने अधूरे वादों को मुद्दा बनाया। राहुल ने कहा कि पीएम मोदी गंगा को साफ करने, बनारस को साफ करने, फोर लेनिंग करने और इंटरनेट देने का वादा किया था, लेकिन कोई वादा पूरा नहीं किया। राहुल ने कहा, ‘हम सब गंगा के बेटे हैं लेकिन मोदीजी कहते हैं कि केवल वही गंगा के बेटे हैं।’
कुल मिलकर आज पूरे दिन बनारसिया चुनावी जंग में कई रंग देखने को मिले लेकिन केसरिया रंग कुछ ज्यादा गहरा दिखा ।

READ  नहीं रहे पूर्व लोकसभा स्पीकर सोमनाथ चटर्जी
×