न्यूज फ्लैश

मोदी शहंशाह नहीं, झूठे आरोप लगा रही सरकार – सोनिया

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा है कि कांग्रेस मुक्त भारत के अपने मिशन को पूरा करने के लिए मोदी सरकार गांधी परिवार पर झूठे आरोप लगा रही है। दामाद राबर्ट वाड्रा पर लंदन में बेनामी संपत्ति होने के लगे आरोपों से नाराज सोनिया ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के किसानों को सूखे से बचाने और युवाओं को रोजगार देने का वादा पूरा करने की बजाय कांग्रेस और गांधी परिवार को बदनाम करने के मिशन में जुटे हैं।

उन्होंने कहा, “मैंने कभी ऐसा नहीं देखा। वो देश के प्रधानमंत्री हैं ना कि शहंशाह। देश में बहुत गरीबी है। सूखा पड़ा हुआ है। किसान मुश्किल में हैं। मैं इस तरह के दिखावे को उचित नहीं मानती।” उन्‍होंने कहा कि यह षड्यंत्र है और कांग्रेस-मुक्त भारत की मुहिम के तहत इसे रचा गया है। मोदी सरकार आरोपों की जांच क्यों नहीं कराती। बिना भेदभाव के आरोपों की जांच हो जाए तो दूध का दूध और पानी का पानी सामने आ जाएगा। अपने संसदीय क्षेत्र रायबरेली के दो दिवसीय दौरे पर पहुंची सोनिया ने मीडिया के सवालों के जवाब में यह बात कही। उन्‍होंने कहा कि रायबरेली में प्रस्तावित विकास परियोजनाओं के साथ पक्षपात किया जा रहा है। कई योजनाएं धन के अभाव में लंबित पड़ी हैं।

वहीं, कांग्रेस ने पलटवार करते हुए भाजपा नेता सिद्धार्थ नाथ सिंह के हथियारों के इसी डीलर, संजय भंडारी के साथ लगातार संपर्क को लेकर सफाई मांगी है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि सीबीआई को सिद्धार्थ नाथ सिंह की भी जांच करनी चाहिए जिन्होंने 6 अप्रैल 2015 से करीब एक वर्ष के दौरान भंडारी से 45 बार बातचीत की और 15 एसएमएस भेजे। इस पर सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि उनके भंडारी के साथ सामाजिक रिश्ते और दोस्‍ती हैं। निश्चित रूप से यह व्‍यापारिक संबंध नहीं हैं। हम दोनों के बच्‍चे एक ही स्कूल में जाते हैं। सिंह ने कहा कि कांग्रेस ने जांच की मांग की है। मुझे इस पर कोई ऐतराज नहीं है। मेरे पास छुपाने के लिए कुछ नहीं है। जहां तक कॉल्‍स का आरोप है, यह पूरी तरह झूठ है। कांग्रेस पार्टी के शहजाद पूनावाला ने सीबीआई को पत्र खिलकर इस बात की जांच करने का आग्रह किया है कि क्‍या सिंह की ओर से भंडारी को कॉल्‍स किए गए, जैसा दावा एक न्‍यूज मैगजीन की रिपोर्ट में किया गया है।

सोमवार को एक न्यूज चैनल ने बताया था कि वित्त मंत्रालय इस बात की जांच कर रहा है कि क्‍या संजय भंडारी ने लंदन में वर्ष 2009 में रॉबर्ट वाड्रा के लिए बेनामी घर खरीदा। गौरतलब है कि वित्तीय गड़बड़ि‍यों को लेकर भंडारी के खिलाफ हाल ही में छापे मारे गए हैं। वैसे रॉबर्ट वाड्रा के वकीलों ने इन आरोपों को  बेबुनियाद करार दिया है। रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए वाड्रा के वकीलों ने कहा, ‘उनके पास प्रत्‍यक्ष या परोक्ष रूप से ऐसा कोई घर नहीं है जिसे आपने 12 एल्लर्टन हाउस, ब्रायंस्टन स्क्वायर लंदन के रूप में बताया है। रॉबर्ट वाड्रा और उनके सहायक ने कोई लेनदेन संजय भंडारी के साथ नहीं किया है और उन्‍हें इस बात की भी जानकारी नहीं है कि संजय भंडारी किसी रक्षा लेनदेन में शामिल हैं। ‘

The following two tabs change content below.
ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।
ओपिनियन पोस्ट
About ओपिनियन पोस्ट (5258 Articles)
ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।

Leave a comment

Your email address will not be published.


*