न्यूज फ्लैश

भारत में ऐसा कुछ नहीं जिसे याद किया जाए : माल्या

सुप्रीम कोर्ट भी अदालत की अवमानना पर सुना सकती है सजा

अभिषेक रंजन सिंह। भगोड़ा घोषित किए गए भारतीय उद्योगपति विजय माल्या ने एक हैरान करने वाली बात कही है। उन्होंने कहा है कि भारत में ऐसा कुछ नहीं है, जिसे याद किया जाए। दरअसल, एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान में ऐसा कुछ नहीं है जिसे मिस किया जाए। सोशल मीडिया पर उनके इस बयान की तीखी आलोचना हो रही है।

उल्लेखनीय है कि भारत के विभिन्न सरकारी और निजी बैंकों से कारोबारी विजय माल्या ने हजारों करोड़ रुपये का कर्ज ले चुके हैं। बैंकों की राशि चुकाने की बजाय वह भारत से फरार हो चुके हैं और लंदन में प्रवास कर रहे हैं। हालांकि, भारत सरकार की तरफ से विजय माल्या को भारत लाने की कोशिशें जारी हैं। वहीं विजय माल्या के खिलाफ उच्चतम न्यायालय भी न्यायिक अवमानना के मामले में जल्द ही फैसला सुना सकता है। गौरतलब है कि उच्चतम न्यायालय ने विजय माल्या को 10 जुलाई को अदालत में पेश होने का आदेश दिया था। लेकिन वे अदालत में पेश नहीं हुए।

गत दिनों इंग्लैंड में हुए क्रिकेट मैच के दौरान भी माल्या वहां नजर आए थे। बुधवार को फॉर्म्युला वन के एक कार्यक्रम में पहुंचे विजय माल्या ने कहा कि भारत में मिस करने लायक कुछ भी नहीं है। क्योंकि मेरे परिवार के सदस्य या तो इंग्लैंड में रह रहे हैं या फिर अमेरिका में। भारत में कोई नहीं रहता। इसके अलावा मेरे बाकी परिजन यूके के नागरिक हैं।

The following two tabs change content below.
ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।
ओपिनियन पोस्ट
About ओपिनियन पोस्ट (3003 Articles)
ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।

Leave a comment

Your email address will not be published.

*