खगोशी की हत्या पहले से नियोजित थी

सऊदी अरब ने पत्रकार जमाल खाशोगी की हत्या के संबंध में अपने बयान को बदलते हुए कहा कि खाशोगी की हत्या ‘पूर्वनियोजित’ थी। सऊदी अधिकारियों ने पिछले हफ्ते कहा था कि क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के आलोचक खाशोगी की इंस्तांबुल के वाणिज्य दूतावास में एजेंट के साथ झड़प में ‘दुर्घटनावश’ मौत हो गई थी।

सऊदी लोक अभियोजक ने गुरुवार को यह घोषणा सरकारी समाचार एजेंसी के जरिए की। सऊदी प्रेस एजेंसी(एसपीए) के मुताबिक अभियोजक ने कहा कि यह निष्कर्ष तुर्की में सऊदी-तुर्की संयुक्त जांच की नई सूचनाओं पर आधारित है। सऊदी विदेश मंत्री ने कहा कि अभियोजक नई सूचनाओं के आधार पर जांच जारी रखेंगे।

बताते चलें कि वाशिंगटन पोस्ट के स्तंभकार खाशोगी 2 अक्टूबर को कुछ कागजात के लिए इंस्तांबुल स्थित सऊदी वाणिज्य दूतावास गए थे और उसके बाद लापता हो गए थे। घटना के कुछ दिन बाद तुर्की अधिकारियों ने कहा कि उन्हें मारने के इरादे से तुर्की भेजे गए 15 सऊदी एजेंटों ने ‘पूर्व नियोजित’ साजिश के तहत उनकी हत्या कर दी।  अब तक खाशोगी का शव अबतक बरामद नहीं किया गया है।

×