न्यूज फ्लैश

इमरान को मोदी ने नहीं बुलाया

पीएम मोदी ने सिर्फ बधाई देने के लिए इमरान को भेजी थी चिट्ठी

ओपिनियन पोस्‍ट।

भारत ने पाकिस्तान के नए विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के उस दावे को खारिज किया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इमरान खान को बातचीत के लिए न्योता भेजा है। दरअसल, क्रिकेटर से नेता बने इमरान खान ने पिछले 18 अगस्त को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद की शपथ ली और पीएम नरेंद्र मोदी ने उन्हें चिट्ठी लिखकर बधाई दी थी।

इस चिट्ठी पर पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कुछ और दावा किया था जिसे भारत ने खारिज कर दिया है। इससे पहले आम चुनाव में सबसे ज्यादा सीट जीतने पर भी पीएम मोदी ने फोन कर इमरान खान को बधाई दी थी। इस प्रकार भारत को लेकर इमरान खान का बड़ा झूठ बेनकाब हो गया है।

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने दावा किया है कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बातचीत की शुरुआत करने के लिए प्रधानमंत्री इमरान को चिट्ठी लिखी है। कुरैशी ने कश्मीर का राग अलापा और कहा कि दोनों देशों के बीच का मसला बहुत ही जटिल है। उस संदर्भ में बातचीत की जानी चाहिए। हमें समस्या का समाधान करना होगा। दोनों देशों के बीच पुन: वार्ता की शुरुआत होनी चाहिए।

भारत ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इमरान खान को पत्र भेजा है जिसमें उन्होंने कहा है कि भारत पाकिस्तान के साथ शांतिपूर्ण पड़ोसी रिश्तों के लिए प्रतिबद्ध है। भारत पड़ोसी पाकिस्तान के साथ सकारात्मक और सार्थक साझेदारी के लिए आशान्वित है। मोदी ने आतंकवाद मुक्त दक्षिण एशिया के लिए काम करने की जरूरत पर जोर दिया है।

इससे पहले कुरैशी ने कहा, ‘भारत के साथ निरंतर और बिना दखलअंदाजी वाली बातचीत की जरूरत है। हम पड़ोसी हैं। लंबे समय से हमारे बीच विवाद चले आ रहे हैं,  हम दोनों को ही अपनी परेशानियां मालूम हैं। लेकिन हमारे पास सिवाय बातचीत के कोई और विकल्प नहीं है। हम यहां कुर्सियां तोड़ने नहीं आए हैं।’ उन्होंने कहा कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पीएम इमरान खान को पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने दोनों देशों के बीच बातचीत की शुरुआत का संकेत दिया है।

सूत्रों के मुताबिक, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री इमरान खान को लिखी गई बधाई वाली चिट्ठी में एक पड़ोसी देश के रूप में सकारात्मक रूप से आगे बढ़ने की बात कही है,  इसमें औपचारिक तौर पर दोनों देशों के संबंधों को लेकर बातचीत के लिए आमंत्रित करने जैसा कोई प्रस्ताव नहीं दिया गया है।

The following two tabs change content below.
ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।
ओपिनियन पोस्ट
About ओपिनियन पोस्ट (4429 Articles)
ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।

Leave a comment

Your email address will not be published.

*