हॉकी खिलाड़ी ज्योति गुप्ता की मौत, शुरुआती जांच में पुलिस ने बताया आत्महत्या का मामला

रेवाड़ी में नेशनल महिला हॉकी टीम की खिलाड़ी ज्योति गुप्ता का शव रेलवे ट्रैक पर मिला है। 20 साल की ज्योति हॉकी में नेशनल गोल्ड मेडलिस्ट थीं। शुरुआती जांच में पुलिस का कहना है कि ये मामला आत्महत्या का हो सकता है।

चंडीगढ़-जयपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस ट्रेन के ड्राइवर ने पुलिस को बताया कि रात करीब 8:30 बजे जब ट्रेन झज्जर रोड के पुल के पास से गुजर रही थी तभी वो अचानक ट्रेन के सामने आ गई। जिसके बाद ड्राइवर ने जीआरपी को फोन कर मामले की जानकारी दी।

हालांकि ज्योति के परिवारवालों का कहना है कि बुधवार को वो अपने घर (सोनीपत) से रोहतक महर्षि दयानंद यूनिवर्सिटी गई थी। ज्योति की मां के मुताबिक उसकी मार्कशीट में नाम गलत लिखा था, जिसे वो ठीक कराने के लिए यूनिवर्सिटी गई थी। जब उसकी मां ने उसे शाम 7 बजे फोन किया तब ज्योति ने कहा था कि रास्ते में बस खराब हो गई है, लेकिन दोबारा फोन किया गया तो उसका मोबाइल बंद आया। रात करीब 10:30 बजे जब उसका फोन ऑन हुआ तब उसके घर वालों को पुलिस ने उसकी मौत की जानकारी दी।

ज्योति हॉकी में एक स्ट्राइकर खिलाड़ी थी। बीते 4-5 सालों से भारतीय महिला हॉकी टीम का हिस्सा थीं। हाल ही में गुवाहाटी में हुए सैफ गेम्स में भी वो खेली थीं। अगले हफ्ते बैंगलुरु में होने वाले हॉकी कैंप में भी हिस्सा लेना था। इसी साल मई के महीने में ज्योति ने रोहतक में हुए सीनियर हॉकी चैंपियनशिप के लिए ऑल इंडिया यूनिवर्सिटी टीम की तरफ से हिस्सा लिया था।

×