केजरीवाल सरकार ने दिया दिल्लीवासियों को ‘हेल्थ फॉर आल’ का तोहफा

ओपिनियन पोस्ट
पिछले दो साल से दिल्ली में सत्तासीन आम आदमी पार्टी (AAP) ने सही मायनों में दिल्ली की जनता को अब तक का सबसे बड़ा तोहफा दिया है। दिल्ली सरकार ने ‘हेल्थ फॉर आल’ के तहत फ्री सर्जरी योजना को लागू कर दिया है। यह योजना के राजधानी दिल्ली के सभी प्राइवेट अस्पतालों में शुरू की गई है।
स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन के मुताबिक, देश की राजधानी दिल्ली में फ्री हेल्थ टेस्ट के बाद अब फ्री सर्जरी की योजना लागू की गई है। इस योजना का लाभ सरकार सड़क दुर्घटनाग्रस्त घायलों को देगी, इस योजना के द्वारा सरकार दुर्घटनाग्रस्त घायलों का इलाज प्राइवेट अस्पतालों में फ्री में करवाया जाएगा।
स्वास्थ्य मंत्री के मुताबिक दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के लोगों को हेल्थ फॉर आल कॉन्टेस्ट के तहत बेस्ट मेडिकल सुविधा उपलब्ध करवाने की योजना बनाई है। यदि किसी व्यक्ति की सर्जरी की तिथि एक महीने के बाद से ज्यादा की है तो मरीज का फ्री इलाज प्राइवेट अस्पताल में हो सकेगा। इसके अतिरिक्त अब मरीज एमआरआई सीटी स्कैन और पीटी सिटी स्कैन जैसे महंगे रेडियो थैरेपी टेस्ट भी फ्री में करा पाएंगे।
अपनी इस योजना को कार्यान्वित करने के लिए दिल्ली सरकार ने कई मशहूर निजी अस्पतालों को पैनल में शामिल किया है। बता दें कि, दिल्ली सरकार के अंतर्गत 30 से ज्यादा सरकारी अस्पताल आते हैं। अब दिल्ली के सरकारी अस्पताल के डाक्टर यदि मरीजों के बेहतर इलाज के लिए उन्हें कहीं और रेफर करेंगे तो मरीजों को सभी महंगे रेडियो टेस्ट निजी संस्थानों में मुफ्त कराने की सुविधा मिलेगी। इस सभी महंगी जांचों का खर्च सरकार उठाएगी।
हेल्थ मिनिस्टर सत्येंद्र जैन ने बताया कि दिल्ली में होने वाली सड़क दुर्घटनाओं के घायलों का अब यहां के प्राइवेट अस्पतालों में हो सकेगा। सरकार जल्द ही अस्पतालों और नर्सिंग होम की लिस्ट नोटिफाई करेगी, जहां पर घायलों को समय पर इलाज मिलेगा और बेहतर इलाज होगा। जैन ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने भी आदेश दिया था कि सड़क दुर्घटना में घायलों की जान बचाना सरकार की जिम्मेदारी है। सीएम अरविंद केजरीवाल के निर्देशों के बाद हेल्थ डिपार्टमेंट ने घायलों के इलाज को लेकर पूरा प्लान तैयार किया है। सड़क दुर्घटना में घायलों के इलाज की इस योजना में वे आग से पीड़ित लोग भी शामिल होंगे। अगर कहीं पर आग लगती है तो घायलों का इलाज प्राइवेट अस्पतालों में हो सकेगा। इसके साथ ही एसिड अटैक विक्टिम को भी इस योजना के दायरे में लाया गया है और उनका इलाज भी प्राइवेट अस्पतालों में होगा।
फ्री सर्जरी का ट्रायल पूरा
हेल्थ मिनिस्टर सत्येंद्र जैन ने बताया कि प्राइवेट अस्पतालों में फ्री सर्जरी का ट्रायल पूरा हो गया है। अभी तक 230 सर्जरी की जा चुकी हैं। इनमें बायपास सर्जरी भी शामिल है। ट्रायल के दौरान जिन सरकारी अस्पतालों से सबसे ज्यादा केस रेफर किए गए हैं, उनमें भगवान महावीर अस्पताल, राव तुला राम अस्पताल और आंबेडकर अस्पताल शामिल हैं। करीब 50 प्राइवेट अस्पतालों में फ्री सर्जरी की सुविधा लोगों को मिल सकेगी। जैन ने बताया कि पहले जहां सरकारी अस्पतालों में महंगे टेस्ट के लिए डेढ़ से दो साल की वेटिंग होती थी, वहीं अब वेटिंग खत्म हो गई है। प्राइवेट लैब्स में तुरंत फ्री टेस्ट हो रहे हैं। इसके साथ ही अब फ्री सर्जरी की स्कीम लागू होने से सरकारी अस्पतालों में भी वेटिंग कम होती जाएगी। एक महीने से ज्यादा की डेट मिलने पर सरकारी अस्पताल मरीज को प्राइवेट अस्पताल में सर्जरी के लिए रेफर कर सकेंगे। दिल्ली के सभी लोगों के लिए ये फ्री मेडिकल सुविधा होगी।

×