न्यूज फ्लैश

ईडी का पंजा, नीरव पर शिकंजा

न्यूयॉर्क में 216 करोड़ रुपये का अपार्टमेंट सीज, 637 करोड़ रुपये की संपत्ति अटैच

ओपिनियन पोस्‍ट।

पीएनबी घोटाले में नीरव मोदी और उसके परिवार पर प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी का शिकंजा कसता जा रहा है। न्यूयॉर्क में उसका 216 करोड़ रुपये का अपार्टमेंट सीज कर दिया गया है और 637 करोड़ रुपये की संपत्ति अटैच कर दी गई है।

विदेश मंत्रालय ने अगस्त के पहले सप्ताह में बताया था नीरव मोदी लंदन में है और गृह मंत्रालय ने उसके प्रत्यर्पण के लिए आवेदन भी भेजा था। नीरव मोदी का पासपोर्ट भी इस साल फरवरी में रद्द कर दिया गया था। वहीं मेहुल चोकसी एंटीगा में है और वहां की सरकार ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को भरोसा दिलाया है कि चोकसी के प्रत्यर्पण में भारत की पूरी मदद की जाएगी।

नीरव मोदी और उसके परिवार के खिलाफ भारत समेत 5 देशों में कार्रवाई की गई। इस दौरान 637 करोड़ रुपये की संपत्ति और बैंक खाते अटैच किए गए। ईडी ने बताया कि यह कार्रवाई मुंबई, लंदन, सिंगापुर, हॉन्गकॉन्ग और न्यूयॉर्क में की गई।

न्यूयॉर्क में 216 करोड़ रुपये का अपार्टमेंट इचाका ट्रस्ट के नाम पर खरीदा गया था। नीरव की पत्नी एमी इस ट्रस्ट से जुड़ी हुई है। नीरव की बहन पूर्वी के नाम पर सिंगापुर के बैंक का एक अन्य खाता भी कब्जे में लिया गया है। इसमें 44 करोड़ रुपये का बैलेंस है।

लंदन में 57 करोड़ रुपये का अपार्टमेंट ईडी ने जब्त किया, जो पूर्वी के नाम पर है। ईडी के मुताबिक पीएनबी घोटाले की रकम से 2017 में इसे खरीदा गया था। मुंबई में 19.5 करोड़ का फ्लैट अटैच किया गया। यह पूर्वी के नाम पर है। पूर्वी पर मनी लॉन्ड्रिंग के भी आरोप हैं। उसके खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस पहले ही जारी हो चुका है।

प्रवर्तन निदेशालय हॉन्गकॉन्ग से 22.69 करोड़ रुपये की डायमंड ज्वेलरी भारत लाया। 23 बार में यह कार्रवाई की गई। नीरव ने एक प्राइवेट कंपनी के पास ज्वेलरी छिपा रखी थी। ईडी ने कंपनी को भरोसे में लेकर ज्वेलरी हासिल कर ली।

ईडी के अधिकारी ने बताया कि पीएनबी घोटाले में एक अन्य आरोपी आदित्य नानावटी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी हुआ है। आदित्य पर मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप है। 13,500 करोड़ रुपये से ज्यादा के पीएनबी घोटाले में नीरव मुख्य आरोपी है। उसने पीएनबी की मुंबई स्थित ब्रेडी हाउस शाखा के अधिकारियों की मिलीभगत से यह घोटाला किया।

नीरव और उसके मामा मेहुल चौकसी ने फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग्स के जरिये बैंक से रकम लेकर विदेशों में ट्रांसफर की। सरकार दोनों के प्रत्यर्पण की कोशिशों में जुटी है।

एजेंसी ने नीरव मोदी, पूर्वी और अन्य लोगों के पांच बैंक खातों को भी जब्त किया है। इनमें 278 करोड़ रुपये हैं। इंटरपोल ने नीरव मोदी,  नीशाल,  पूर्वी और उनके कार्यकारी सुभाष परब के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया है।

प्रवर्तन निदेशालय ने जांच का दायरा बढ़ा दिया है। उसने नीरव मोदी की विदेश में स्थित 4,000 करोड़ रुपये की संपत्तियों की पहचान की है। सूत्रों की मानें तो इन संपत्तियों में से ही 637 करोड़ की संपत्ति को जब्‍त किया गया है।

The following two tabs change content below.
ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।
ओपिनियन पोस्ट
About ओपिनियन पोस्ट (4436 Articles)
ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।

Leave a comment

Your email address will not be published.

*