राष्ट्रीय

राष्ट्रीय

पलट गया पासा, राजा-महाराजा चारों खाने चित

लोकसभा चुनाव के नतीजों को लेकर कांग्रेस को जिन राज्यों से सर्वाधिक उम्मीदें थीं, उनमें कभी उसके गढ़ रहे मध्य प्रदेश एवं छत्तीसगढ़ भी शामिल हैं. लेकिन, दोनों राज्यों के चुनाव नतीजों ने उसकी उम्मीदों पर...

गठबंधन पर भारी पड़ी भाजपा

देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश की जनता ने लोकसभा चुनाव में ८० में से ६२ सीटों पर भाजपा को जीत दिलाकर ऐलानिया साफ किया है कि मौसमी-मौकापरस्त सियासी जोड़-तोड़ के लिए उसके दिल में कोई जगह नहीं है. या...

बीजद बनाम भाजपा में सिमटा मुकाबला

चुनाव की घोषणा होने तक बीजू जनता दल सत्ता में अपनी वापसी को लेकर खासा आश्वस्त नजर आ रहा था, लेकिन पहले उम्मीदवारों के चयन और फिर टिकट वितरण को लेकर पार्टी में जो घमासान देखने को मिला, उसने नवीन पटनायक...

केंद्रीय कृषि मंत्री की साख दांव पर

वर्ष 2002 में परिसीमन के बाद मोतिहारी लोकसभा पूर्वी चम्पारण लोकसभा के नाम से जाना जाता है. 1989 मे भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष राधामोहन सिंह को भाजपा ने चुनावी समर में उतारा. उन्हें जीत...

कौशलेंद्र की जीत तय करेगी नीतीश की बादशाहत

नालंदा लोकसभा सीट पर कुर्मी वोट निर्णायक होगा. एनडीए से जदयू उम्मीदवार कौशलेंद्र के अलावा अभी तक महागठबंधन से ‘हम’ के उम्मीदवार डॉ. अशोक कुमार आजाद (चंद्रवंशी) का नाम सामने आया है. नालंदा में अंतिम चर...

बंद मिल-कारखाने पूछ रहे सवाल

अक्सर राजनीतिक उठापटक देखने वाली सीवान की जनता अभी पूरी तरह चुप है. उम्मीदवार जनता के बीच जाते हैं, तो उन्हें जवाब मिलता है कि यहां सारे वोट आपके हैं. हर उम्मीदवार यही आश्वासन पा रहा है. लेकिन, पीठ पी...

बिहार चुनाव : किसी की राह आसान नहीं

एनडीए और महागठबंधन के नेता एक-दूसरे पर नाकामी के आरोप लगा रहे हैं. वहीं आम जनता अपना फैसला खुद करने की बात कहकर उम्मीदवारों को ‘खबरदार’ कर रही है. सबसे सुखद बात यह है कि इस बार शहर से लेकर गांव तक लोग...

जदयू के आधार वोटर होंगे निर्णायक

सासाराम सुरक्षित संसदीय सीट पर आजादी से लेकर साल 1986 तक बाबू जगजीवन राम का आधिपत्य रहा. हाल यह था कि चुनाव में उनके खिलाफ  सारे जातीय समीकरण धरे के धरे रह जाते थे. चाहे वह कांग्रेस के टिकट पर मैदान म...

अब पेंशन की मत लें टेंशन

यूं तो सरकार सामाजिक सुरक्षा के लिए कई योजनाएं चलाती है, जिसमें वृद्धावस्था पेंशन से लेकर विधवा पेंशन तक शामिल है. लेकिन, कई बार यह देखने को मिलता है कि उक्त योजनाओं का लाभ जरूरतमंदों तक नहीं पहुंच पा...

एनडीए-महागठबंधन में कांटे की टक्कर

राज्य की 14 लोकसभा सीटों के लिए चुनावी बिसात बिछ चुकी है. एनडीए और महागठबंधन के उम्मीदवारों की घोषणा हो चुकी है. लगभग सभी सीटों पर वोटकटवा उम्मीदवार भी मैदान में हैं. कुछ सीटों पर त्रिकोणात्मक संघर्ष...

नक्सलवाद के खिलाफ निर्णायक कार्रवाई कब?

सत्ता बदलने से स्थितियां बदल जाएं, यह जरूरी नहीं. इसका सटीक उदाहरण है, छत्तीसगढ़. राज्य में जब भारतीय जनता पार्टी सत्ता में थी, तो नक्सलियों ने झीरम घाटी में एक बड़ा हमला करके कई कांग्रेसी नेताओं की ह...

कैराना में सब ठीक है!

आज एक बार फिर कैराना सुर्खियों में है. भारतीय जनता पार्टी कैराना के उस पलायन की याद दिला रही है. मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने दावा किया कि कैराना के जिन परिवारों ने पलायन किया था, उनकी अब वापसी हो ग...

×