बेंगलुरु रैप्टर्स ने पहली बार किया खिताब पर कब्जा

championship 2019भारत के नंबर एक पुरुष बैडमिंटन खिलाड़ी किदांबी श्रीकांत की अगुवाई वाली बेंगलुरु रैप्टर्स की टीम ने पहली बार प्रीमियर बैडमिंटन लीग-पीबीएल खिताब पर कब्जा किया. बीती 13 जनवरी को मुंबई में बेंगलुरु रैप्टर्स ने मुंबई रॉकेट्स के खिलाफ खेले गए चौथे सीजन के फाइनल मुकाबले में उसे 4-3 से मात देकर खिताबी जीत हासिल की. मैच में किदांबी श्रीकांत के अलावा थी थ्रांग वू ने शानदार प्रदर्शन करते हुए अपनी टीम की जीत में अहम भूमिका अदा की.

श्रीकांत ने टीम को ऐसे समय में जीत दिलाई, जब वह मैच में 0-2 से पिछड़ी हुई थी. इसके बाद वू ने अपना ट्रंप मैच जीतते हुए बेंगलुरु को 3-2 से आगे कर दिया. लेकिन, इसके बाद मुंबई रॉकेट्स के समीर वर्मा ने बेंगलुरु रैप्टर्स के बी साई प्रणीत को मात देकर एक बार फिर स्कोर को 3-3 से बराबर कर दिया. इसके साथ ही मैच आखिरी मुकाबले में पहुंच गया. मैच में हार- जीत का फैसला पुरुष युगल के अंतिम मैच से निकला, जिसमें बेंगलुरु रैप्टर्स ने मुंबई रॉकेट्स को मात देते हुए खिताबी जीत हासिल की.

स्पीलबर्ग के साथ काम करना चाहते हैं श्रीसंत

srisantबिग बॉस सीजन 12 के उप विजेता रहे क्रिकेटर श्रीसंत इन दिनों अभिनय के क्षेत्र में अपनी पहचान बनाने में जुटे हैं. छोटे पर्दे से इतर वह बॉलीवुड की हालिया रिलीज फिल्म ‘कैबरेट’ में नजर आए, लेकिन श्रीसंत अब हॉलीवुड में काम करना चाहते हैं. श्रीसंत ने मीडिया से कहा, मैं स्टीवन स्पीलबर्ग के साथ काम करना चाहता हूं, क्योंकि यह मेरा सपना है.. अगर आप मेरे दोस्तों से पूछें, तो वे बताएंगे कि जब मैं अंडर-19 टीम में था, तो उस समय जब मुझसे कोई पूछता था कि मैं क्या करना चाहता हूं, तो मैं बोलता था कि देश के लिए खेलना चाहता हूं और वे हंसते थे. उन्होंने कहा, मैं पहले ही दो बॉलीवुड फिल्में कर चुका हूं, दक्षिण सिनेमा की फिल्में कर चुका हूं और अब हॉलीवुड में काम करना चाहता हूं. श्रीसंत ने यह भी कहा कि हॉलीवुड में काम करने का लक्ष्य पाने के लिए वह न्यूयॉर्क फिल्म अकादमी में दाखिला लेंगे. उन्होंने कहा, मेरी फिल्म ‘कैबरेट’ रिलीज हो चुकी है और अच्छी कमाई कर रही है. मेरी कन्नड़, तमिल, तेलुगू फिल्म ‘केम्पेगॉडा-2’ मार्च के पहले सप्ताह में रिलीज होगी. एक मराठी फिल्म कर रहा हूं, जो फरवरी तक फ्लोर पर आ जाएगी. कन्नड़ की एक और फिल्म कर रहा हूं औ दो बॉलीवुड फिल्में भी करने वाला हूं.

 

अभिनव शॉ ने रचा इतिहास

महाराष्ट्र के पुणे में आयोजित दूसरे ‘खेलो इंडिया’ स्कूल गेम्स में पश्चिम बंगाल के 10 वर्षीय निशानेबाज अभिनव शॉ ने इतिहास रच दिया. वह ‘खेलो इंडिया’ स्कूल गेम्स में स्वर्ण पदक जीतने वाले सबसे कम उम्र के खिलाड़ी बन गए. आसनसोल निवासी अभिनव ने निशानेबाजी की 10 मीटर एयर राइफल मिक्स्ड टीम स्पर्धा में मेहुली घोष के साथ अपने राज्य को स्वर्ण पदक दिलाया. अभिनव ने अपनी साथी मेहुली के साथ शानदार प्रदर्शन किया. छठवीं कक्षा के छात्र अभिनव ने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाते हुए क्वॉलिफिकेशन राउंड के बाद फाइनल में भी बेहतरीन प्रदर्शन किया. फाइनल में पश्चिम बंगाल की टीम ने 501.7 अंक हासिल किए, जबकि दूसरे नंबर पर राजस्थान रहा. अभिनव अपने कोच जयदीप कर्मकार के मार्गदर्शन में निशानेबाजी का ककहरा सीख रहे हैं.

×