ओपिनियन पोस्ट

ओपिनियन पोस्ट
ओपिनियन पोस्ट एक राष्ट्रीय पत्रिका है जिसका उद्देश्य सही और सबकी खबर देना है। राजनीति घटनाओं की विश्वसनीय कवरेज हमारी विशेषज्ञता है। हमारी कोशिश लोगों तक पहुंचने और उन्हें खबरें पहुंचाने की है। इसीलिए हमारा प्रयास जमीन से जुड़ी पत्रकारिता करना है। जीवंत और भरोसमंद रिपोर्टिंग हमारी विशेषता है।

क़द्दावर चेहरों के बीच आर-पार की लड़ाई

2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा के अश्विनी चौबे ने जगदानंद सिंह को एक लाख से अधिक वोटों से पराजित किया था. इस बार भी दोनों के बीच कड़ा मुकाबला माना जा रहा है. पिछले लोकसभा चुनाव में बसपा के ददन पहलवान...

ईवीएम को लेकर थम नहीं रहा विवाद

इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन एक बार फिर चर्चा में है. देश के कुछ राजनीतिक दल ईवीएम के सहारे कई बार चुनाव जीतने और सत्ता सुख भोगने के बावजूद उसकी निष्पक्षता पर शक जता रहे हैं. जबकि इस बार ज्यादातर ईवीएम मे...

क्षेत्रीय क्षत्रपों के अंत की शुरुआत

उत्तर प्रदेश उत्तर प्रदेश के लोकसभा उपचुनाव में तीन सीटें जीतने के बाद महागठबंधन (सपा-बसपा-रालोद) का आत्मविश्वास बढऩा लाजिमी था. लेकिन, यह आत्मविश्वास इतनी जल्दी डिग जाएगा, इसका अंदाजा शायद ही मायावती...

कहां गए मुद्दे, कहां गया समीकरण

बिहार उपेंद्र कुशवाहा को महागठबंधन ने पांच सीटें दी थीं. वह खुद दो सीटों से चुनाव लड़ रहे थे. दोनों जगह हार गए. पूर्वी चंपारण से उन्होंने कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य अखिलेश प्रसाद सिंह के पुत्र आकाश सि...

क्षेत्रीय दलों का जलवा बरकरार

पूर्वोत्तर असम सहित पूर्वोत्तर भारत के आठ राज्यों में भाजपा अपना आधार धीरे-धीरे मजबूत कर रही है. अरुणाचल प्रदेश में लोकसभा के साथ-साथ विधानसभा चुनाव भी थे. अरुणाचल की दोनों लोकसभा सीटों पर भारतीय जनता...

राजरंग : जगन को मिला प्रशांत का सहारा

भाजपा, कांग्रेस एवं जदयू के लिए चुनाव प्रबंधन कर चुके प्रशांत किशोर ने इस बार दक्षिण की ओर रुख किया और आंध्र प्रदेश में अपना जलवा दिखाया. वहां उन्होंने वाईएसआर कांग्रेस के लिए चुनाव प्रबंधन किया और इस...

खूब चला मोदी मैजिक

झारखंड झारखंड की 14 लोकसभा सीटों में से 12 पर एनडीए ने जीत दर्ज कराई. महागठबंधन मात्र दो सीटों, राजमहल एवं सिंहभूम पर सिमट कर रह गया. बाकी 11 सीटों पर भाजपा और एक पर सहयोगी पार्टी आजसू जीती है. खूंटी...

भगवा हुआ ब्रह्मपुत्र का पानी

असम पूर्वोत्तर भारत के इस राज्य में भाजपा ने साल 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान सेंध लगाना शुरू कर दिया था. पूर्वोत्तर में साल 2014 के पहले भाजपा का कोई बड़ा आधार नहीं था, लेकिन उसने धीरे-धीरे यहां अपन...

पटनायक को पटखनी नहीं दे पाई भाजपा

ओडिशा ओडिशा में लोकसभा के साथ-साथ विधानसभा चुनाव भी कराए गए. ऐसे में मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के लिए अपनी कुर्सी बचाए रखने के साथ ही लोकसभा चुनाव में अच्छा प्रदर्शन करना भी एक बड़ी चुनौती थी. पूरे देश...

ममता के किले में भाजपा ने लगाई सेंध

पश्चिम बंगाल पश्चिम बंगाल में इस बार ममता बनर्जी का किला कमजोर हो गया. पश्चिम बंगाल के चुनाव परिणाम पर पूरे देश की नजरें टिकी हुई थीं, क्योंकि उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा गठबंधन के चलते भारतीय जनता पार्...

×