डॉ. मनीष कुमार

डॉ. मनीष कुमार

कांग्रेस का आखिरी दांव कितनी कारगर साबित होंगी प्रियंका

क्या प्रियंका गांधी वाकई ‘कांग्रेस की आंधी’ हैं? क्या वह कांग्रेस को जिताने में कामयाब रहेंगी? हकीकत जो भी हो, लेकिन एक बात साफ है कि 2019 के चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी घबराई हुई है. उसे यह डर स...

नक्सलवाद और अलगाववाद का बुद्धिजीवी मुखौटा है जेएनयू

अधिकारियों की नासमझी के चलते एक छोटे से परिसर की घटना को बेवजह राष्ट्रीय मुद्दा बना दिया गया. केंद्र सरकार ने अगर थोड़े से धैर्य और अक्लमंदी से काम लिया होता, तो यह मुद्दा कभी  बनता ही नहीं. सरकार और...

×