नीचे गिरा ऐपल

तकनीक की दुनिया में अपना नाम बनाने वाली दिग्गज कंपनी ऐपल घाटे का सामना कर रही है। ऐपल को पिछले 13 सालों में पहली बार घाटा हुआ है। जारी आंकड़ों के मुताबिक़ कंपनी की कमाई में एक तिमाही में 13 फ़ीसदी की गिरावट दर्ज हुई है।

इसकी वजह कंपनी के चीन में प्रदर्शन और आईफ़ोन की बिक्री को लेकर कंपनी के अतिविश्वास को माना जा रहा है, जबकि आईफ़ोन की बिक्री में गिरावट आ रही है।

आंकड़ों के मुताबिक़ पिछले साल इसी तिमाही में ऐपल ने 58 अरब डॉलर की बिक्री की थी, जो इस साल घटकर 50 अरब डॉलर रह गई है। ऐपल की ब्रिक्री में 2003 के बाद से पहली बार गिरावट दर्ज की गई है । इस तिमाही में कंपनी ने पांच करोड़ 12 लाख आईफ़ोन बेचे, जबकि 2015 में इसी अवधि में कंपनी ने छह करोड़ 12 लाख आईफ़ोन बेचे थे।

दुनिया में अब लोग आईफोन बहुत ज्यादा नहीं खरीद रहे हैं। एक्सपर्ट मान रहे हैं सितंबर में अगले आईफोन की रिलीज के साथ कंपनी के मुनाफे में भी बढ़ोतरी हो सकती है।

इस दौरान चीन में आईफ़ोन की बिक्री में 26 फ़ीसद की गिरावट आई। डॉलर के मज़बूत होने का भी इन परिणामों पर असर पड़ा है।

इन नतीज़ों का असर ऐपल के शेयरों पर भी देखा गया। कंपनी के शेयर में पिछले एक साल में 20 फ़ीसद की गिरावट आई है।

हालांकि कंपनी के सीईओ टिम कुक ने कहा है कि बड़ी अर्थव्यस्थाओं के संकट में होने के बाद भी कंपनी ने बेहतर प्रदर्शन किया है।

 

×